एसपी को प्रलोभन देने वाले वकील सहित दो लोग गिरफ्तार

0
770
  • रिश्वत देने वालों  की गिरफ़्तारी से बागेश्वर से लेकर देहरादून तक चर्चा
  • खड़िया व्यापारियों की एसपी को प्रलोभन देने की  नाकाम हुई कोशिश 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

बागेश्वर । भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के ”मोटो” पर कार्रवाही करते हुए पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह ने  बागेश्वर का दायित्व संभालते ही दो लोगों द्वारा खुद उन्ही को प्रलोभन देने के मामले में गिरफ्तार क्या करवाया कि बागेश्वर से लेकर देहरादून तक इसकी गूंज सुनाई दी। सत्ता के गलियारों से लेकर सचिवालय और पुलिस मुख्यालय तक में लोकेश्वर सिंह चर्चाओं में आ गए । एसपी लोकेश्वर सिंह ने दोनों पर भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं में कार्रवाई कर दी हैं। दोनों आरोपी पुलिस हिरासत में हैं।

बात बीते दिन बुधवार की देर सांय की है जब दो लोग भगवान सिंह पुत्र आदित्य नारायण सिंह मैनेजर कटियार माइंस बीसा नाकुरी, रीमा व एडवोकेट इंद्र सिंह धामी पुत्र चंद्र सिंह निवासी तहसील रोड, पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह के कैंप कार्यालय में पहुंचे। दोनों व्यक्तियों ने पुलिस अधीक्षक से मिलने की बात कही।

पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह के मिलने पर दोनों व्यक्तियों ने अपने साथ लाए एक पैकेट मिठाई, एक डायरी व कुछ पैसे उन्हें देने लगे और उनसे कहा कि हमारे कटियार माइंस के कई ट्रक खड़िया लेकर हल्द्वानी व बाहरी जिलों में जाते रहते हैं। बिना ओंवर लोडिग आदि से हमारा मुनाफा नहीं हो पाता है। इसलिए आपके सहयोग से ही हम यह कार्य कर सकते हैं ।

बस इनका इतना कहना था कि पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह ने फटकार लगाते हुए प्रभारी निरीक्षक कोतवाली को देनों के खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश दे दिए। दोनों को पुलिस ने तत्काल हिरासत में ले लिया। दोनों आरोपितों पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 की धारा 8 व 9 के तहत कार्रवाई की गई हैं। इंद्र सिंह धामी कटियार माइंस के लिगल एडवाइजर भी हैं।

लोकेश्वर सिंह (पुलिस अधीक्षक, बागेश्वर) का कहना है कि किसी प्रकार के भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अगर कही और भी ऐसी सूचना मिल रही है तो उसकी उनको जानकारी दें। ताकि भ्रष्टाचारियों पर सख्त कार्रवाई की जा सके।

Previous articleसेवा के अधिकार को मजबूती देगा उत्तराखण्ड लोक सेवा अभिकरण :सीएम
Next articleअब फिर संजने लगेगा भाजपा कार्यालय में जनता दरबार !
तीन दशक तक विभिन्न संस्थानों में पत्रकारिता के बाद मई, 2012 में ''देवभूमि मीडिया'' के अस्तित्व में आने की मुख्य वजह पत्रकारिता को बचाए रखना है .जो पाठक पत्रकारिता बचाए रखना चाहते हैं, सच तक पहुंचना चाहते हैं, चाहते हैं कि खबर को साफगोई से पेश किया जाए न कि किसी के फायदे को देखकर तो वे इसके लिए सामने आएं और ऐसे संस्थानों को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘ देवभूमि मीडिया’ जनहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। खबरों के विश्लेषण और उन पर टिप्पणी देने के अलावा हमारा उद्देश्य रिपोर्टिंग के पारंपरिक स्वरूप को बचाए रखने का भी है। जैसे-जैसे हमारे संसाधन बढ़ेंगे, हम ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने की कोशिश करेंगे। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव अवश्य दें। आप अपना सुझाव हमें हमारे ई-मेल editor@devbhoomimedia.com अथवा हमारे WhatsApp नंबर 7579007807 पर भेज सकते हैं। हम आपके आभारी रहेंगे