प्रकाश पंत सीएम पद के प्रस्ताव पर आखिर क्यों बच रहे !

0
314

गैरविधायक भी बन सकता है सीएम !

त्रिवेंद्र के घर पर लगा रहा लोगों का जमावड़ा 

देहरादून  : सीएम पद के प्रमुख दावेदार प्रकाश पंत के विजय कालोनी स्थित घर पर गहमागहमी है। पंत से नजदीकी जाहिर करने में कोई पीछे नहीं है। फिर चाहे अफसर हों या सामान्य लोग। पंत भी लोगों की बधाई स्वीकार कर रहे हैं। मुंह मीठा किए बगैर किसी को लौटने नहीं दे रहे हैं।

मगर उत्साह के इस माहौल में हल्के से घुले मिले संशय को भी आसानी से पढ़ा जा सकता है। ये ही कारण है कि पंत सीएम से जुडे़ सवाल पर तपाक से कहते हैं-मुझ से कई योग्य लोग पार्टी में हैं। सभी विधायकों में कोई न कोई खूबी है। हाईकमान को सबकी परख है। फैसला वहीं से होना है।

पंत के निवास पर सियासी गरमी को साफ महसूस किया जा सकता है। हालांकि ये गरमी वैसी नहीं है, जो विजय कालोनी से कतई विपरीत दिशा में स्थिति त्रिवेंद्र सिंह रावत के डिफेंस कालोनी स्थित घर पर है। प्रकाश पंत के स्वभाव की तरह ही उनके घर का माहौल भी शांत नजर आ रहा है।

लोगों की भीड़ अन्य दिनों के मुकाबले ज्यादा जरूर है। पंत को भी अंदाजा है कि उन्हें संभावित सीएम जानकर लोग उनके घर का रुख कर रहे हैं। दिल्ली जाने और बडे़ नेताओं से मुलाकात की बात को भी वह साफगोई से स्वीकार कर रहे हैं। मगर ये भी जोड़ रहे हैं कि ये शिष्टाचार भेंट से ज्यादा कुछ नहीं थी। दावेदारी जैसी बात तो कतई नहीं थी।

प्रकाश पंत सीएम की दौड़ में कहां तक जाते हैं, ये साफ होना बाकी है, लेकिन पार्टी के स्तर पर उन्हें पूरी तवज्जो दी जा रही है। इसकी बानगी बुधवार को दिखाई दी, जबकि पार्टी के एक पदाधिकारी की अगुवाई में टीम बकायदा उन्हें उनके निवास से बीजेपी मुख्यालय तक लेकर आई। यहां पंत के साथ किसी ने सेल्फी ली, तो किसी ने बुके देकर सम्मान किया। किसी विधायक ने पैर छुए, तो किसी ने गले लगकर गर्मजोशी से स्वागत किया।

मीडिया से बुधवार को प्रकाश पंत ने कई सारी बातें कहीं। इस क्रम में उनकी जिस एक बात पर कयासबाजी तेज हो गई है, वह गैरविधायक के सीएम बनने की संभावना से जुड़ी हुई है। पंत ने कहा कि ये हाईकमान को तय करना है कि वह विधायकों में से या फिर बाहर से किस नेता को क्या जिम्मा सौंपता है।

पंत के इस बयान के बाद चर्चाएं तेज हो गई हैं। दिल्ली में जिस तरह से बीजेपी के कई सांसद सीएम पद के लिए गोटियां बिछाने की कोशिश कर रहे हैं, उससे बहुत सी अटकलों को हवा मिल रही है। वैसे भी ये सौ फीसदी तय नहीं माना जा रहा है कि विधायकों में से ही सीएम बनाया जाए। हालांकि चुनाव प्रचार के दौरान प्रदेश प्रभारी डा जेपी नड्डा ने कहा था कि विधायकों में से ही सीएम चुना जाएगा।