देहरादून : राजधानी देहरादून में ‘वॉक फॉर योग’  के लिए  त्रिवेंद्र रावत की पूरी कैबिनेट ने दौड़ लगार्इ। ‘वॉक फॉर योग’ का उद्देश्य लोगों को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस(21 जून ) के प्रति जागरूक करना रहा।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस(21 जून )  की तैयारियों को लेकर राज्य सरकार कोर्इ भी कमी नहीं रखना चाहती है। सरकार का उद्देश्य है कि योग दिवस के आयोजन को पूरी तरह से सफल बनाया जाए। इसके लिए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत बार-बार अधिकारियों को दिशा निर्देशित कर रहे हैं। इसी कड़ी में ‘वॉक फॉर योग’ का आयोजन किया गया।

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ ही उनकी पूरी कैबिनेट गांधी पार्क से दीनदयाल पार्क तक दौड़ती नज़र आर्इ। इस दौरान सीएम रावत ने कहा कि स्वस्थ भारत के लिए योग को गांव-गांव और घर-घर तक पहुंचाना बेहद जरूरी है तभी जाकर सभी स्वस्थ और निरोग होंगे। उन्होंने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी के प्रयास के बाद ही दुनिया में जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। इसलिए हमें भी योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाकर स्वस्थ भारत के सपने को साकार करना होगा।

सीएम रावत ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम नरेंद्र मोदी खुद उत्तराखंड में योग करेंगे। इसलिए सभी इस आयोजन को सफल बनाने में सरकार का साथ दें। उन्होंने लोगों से अपील की कि वो भी अपने आसपास होने वाले योग दिवस के कार्यक्रमों में हिस्सा लें।

योग की जनजागरुकता को लेकर डीजीपी अनिल रतूड़ी के नेतृत्व में पुलिस अधिकारी घंटाघर से परेड ग्राउंड तक ‘वॉक फॉर योग’ का हिस्सा बनेंगे। इसके साथ ही 18 जून को अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी के नेतृत्व में सचिवालय की महिला अधिकारी और कर्मचारी सचिवालय से जीएमवीएन होते हुए वापस सचिवालय तक ‘वॉक फॉर योग’ करेंगे।

सरकार की तैयारियां हैं अगर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के दिन बारिश हुर्इ तो ऐसी स्थिति में वर्षा योग किया जाएगा। हालांकि मौसम विभाग के अनुसार बारिश की संभावनाएं कम ही हैं। हालांकि इसके लिए भी अधिकारियों को तैयार रहने के निर्देश दिए गए हैं। सचिवालय में योग अभ्यास को अंतिम रूप देते हुए तय किया गया कि बारिश के दौरान भी योग अभ्यास चलता रहेगा।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर बारिश के आसार देखते हुए योग मैट के साथ ही शू बैग और वाटर प्रूफ मोबाइल पाउच का इंतजाम किया जाएगा। योग दिवस के दिन सुबह पांच बजे के बाद किसी को भी एफआरआइ में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

सचिव आयुष आरके सुधांशू ने बताया कि कूड़े के निस्तारण के लिए कम्पेक्टर मशीन लगार्इ जाएगी। साथ ही कूड़ा इकट्ठा करने और सफार्इ के लिए पर्याप्त कर्मी तैनात रहेंगे। बिजली, पानी, स्वास्थ्य सेवाएं और अन्य व्यवस्थाएं भी कर ली गर्इ हैं। 19 जून को कार्यक्रम स्थल पर रिहर्सल भी की जाएगी।