अस्पतालों को नियमों का उल्लंघन करने के आधार पर हटाया 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून । उत्तराखंड में अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना से निः शुल्क इलाज के लिये सम्बद्ध दो प्राइवेट अस्पतालों को बाहर कर दिया गया है तथा दस अस्पतालों की सम्बद्धता निलम्बित कर दी गयी है। सूचना अधिकार के अन्तर्गत अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना के प्रदेश कार्यालय द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना से यह खुलासा हुआ है।

काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन ने अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना कार्यालय, देहरादून से आयुष्मान योजना से सम्बन्धित विभिन्न सूचनायें मांगी थी इसके उत्तर में लोक सूचना अधिकारी/प्रशानिक अधिकारी पूनम चन्देेल ने अपने पत्रांक 274 दिनांक 15 जून 2019 से सूचना उपलब्ध करायी है।

श्री नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार प्रदेश में अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना से सम्बद्ध दो अस्पतालों को नियमों का उल्लंघन करने के आधार पर हटा दिया गया है। इसमें 13 मई 2019 को आस्था हास्पिटल, जनपद उधमसिंह नगर तथा 25 मई को प्रिया  हास्पिटल जनपद हरिद्वार को हटाया गया है।

जज श्री नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार दस प्राइवेट अस्पतालों के विरूद्ध जांच व कार्यवाही की गयी है और उन्हें योजना से निलंबित किया गया है। इसमें 25 मई 2019 को जसपुर मैट्रो अस्पताल जसपुर को निलंबित किया गया हैै। इसके उपरान्त 01 जून 2019 को काशीपुर के सहोता मल्टी स्पेशिलिटी हास्पिटल, अली नर्सिंग होम, रूद्रपुर के कुशन हास्पिटल, हरिद्वार के जीवन ज्योति हास्पिटल, देहरादून के विनोद आर्था क्लीनिक तथा रामनगर के ब्रजेश हास्पिटल को निलम्बित किया गया है। 4 जून को अरोग्य मेडिकल कॉलेज एण्ड हास्पिटल रूड़की तथा 10 जून को देवकी नन्दन हास्पिटल काशीपुर तथा जनसेवा हास्पिटल काशीपुर को निलंबित किया गया है।

श्री नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार अस्पतालों के विरूद्ध कार्यवाही राज्य हैल्थ अथिकरण एवं संबंधित प्राइवेट चिकित्सालय के मध्य हस्ताक्षरित अनुबंध में वर्णित नियमों के आधार पर की गयी है।

श्री नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना के अन्तर्गत प्राइवेट अस्पतालों में इलाज के शुल्क का भुगतान राज्य स्वास्थ्य एजेंसी द्वारा किया जा रहा है।