राजेन्द्र जोशी 

देहरादून । त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। सीएम त्रिवेंद्र रावत के अलावा 9 मंत्रियों ने भी शपथ ली, इन मंत्रियों में 7 कैबिनेट व 2 राज्य मंत्री शामिल हैं। मुख्यमंत्री व मंत्रियों व राज्घ्यपाल डा. केके पॉल ने पद और गोघ्पनियता की शपथ दिलाई। 

परेड मैदान में आयोजित भव्य शपथग्रहण समारोह में राज्यपाल डा. केके पॉल ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ उनके 9 मंत्रियों को शपथ दिलाई। इनमें सतपाल महाराज, प्रकाश पंत, डॉ. हरक सिंह रावत, मदन कौशिक, यशपाल आर्य, अरविंद पांडे, सुबोध उनियाल ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली। साथ ही राज्घ्य मंत्री के रूप में विधायक रेखा आर्य और डा. धन सिंह रावत ने शपथ ग्रहण की।

त्रिवेंद्र रावत सरकार के पहले मंत्री सतपाल महाराज 2014 के लोकसभा चुनाव के समय कांग्रेस से बगावत कर भाजपा में आए थे। रेल राज्य मंत्री रह चुके महाराज सीएम पद की दौड़ में भी शामिल थे। दूसरे मंत्री मदन कौशिक भाजपा के बड़े नेता हैं, हरिद्वार से लगातार चौथी बार जीतकर आए हैं। वे मैदानी क्षेत्र में भाजपा का बड़ा चेहरा हैं।

तीसरे मंत्री प्रकाश पंत भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं, वे सीएम की दौड़ में भी पूरी तरह शामिल रहे हैं। पंत 2007 में भाजपा सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। चौथे मंत्री यशपाल आर्य कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार थे। वे कांग्रेस सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। टिकट बंटवारे से ठीक पहले आर्य बेटे संजीव आर्य समेत कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गए थे।

पांचवें मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत कांग्रेस से बगावत कर भाजपा के टिकट पर कोटद्वार से जीतकर आए हैं। कांग्रेस सरकार में भी कैबिनेट मंत्री रहे हैं। छटवें मंत्री सुबोध उनियाल की कांग्रेस से बगावत में अहम भूमिका रही। पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के खास हैं। वे नरेंद्रनगर से जीतकर आए हैं। सातवें मंत्री अरविंद पांडे गदरपुर से लगातार चौथी बार विधायक रह चुके हैं। वे पालिकाध्यक्ष भी रह चुके हैं। वे ऊधमसिंह नगर में भाजपा के बड़े चेहरे हैं।

आठवें मंत्री रेखा आर्य कांग्रेस से बगावत कर भाजपा में आई हैं। रेखा आर्य सांसद और पूर्व सीएम कोश्यारी की करीबी हैं। महिला होने के नाते मंत्रीमंडल में जगह मिली है। नौवें मंत्री धन सिंह रावत आरएसएस से लंबे समय तक जुड़े रहे हैं। श्रीनगर से चुनाव जीतकर आए हैं। केंद्र में अच्छी पकड़ है।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे। यहां राज्यपाल डॉ. केके पाल, भाजपा विधायक दल नेता त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ ही भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने पीएम मोदी का स्वागत किया। शपथग्रहण समारोह में केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, उमा भारती, जेपी नड्डा,

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, सांसद व पूर्व सीएम डा. रमेश पोखरियाल निशंक, भुवन चंद्र खंडूड़ी, भगत सिंह कोश्यारी के साथ ही निवर्तमान सीएम एवं काग्रेस नेता हरीश रावत भी मौजूद रहे। समारोह स्थल  पहुंचते ही मोदी ने लोगों का अभिवादनस्वीकार किया ।शपथ दिलाने आये सूबे के राज्यपाल की आते ही पूरा परेड ग्राउंड राष्ट्रगान की धुन बजते ही सावधान की मुद्रा में खड़ा हो गया ।इसके बाद  शपथ ग्रहण समारोह शुरू हुआ।समारोह  में पीएम मोदी ने कोई संबोधन नहीं किया। समारोह समाप्त  होने के बाद प्रधानमंत्री व अन्य अतिथि अपने -अपने गंतव्यों की और  रवाना हो गए।

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच संपन्न हुआ त्रिवेंद्र सरकार का शपथग्रहण समारोह

 नई सरकार के शपथ ग्रहण समारोह स्थल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शामिल होने के मद्देनजर दून में सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम रहे। परेड ग्राउंड के आसपास के क्षेत्र को जीरो जोन घोषित किया गया था। शहर में भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित रहा। सुरक्षा व्यवस्था में बड़ी संख्या में सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया था।

नई सरकार के शपथग्रहण समारोह में पीएम नरेंद्र मोदी के पहुंचने के कारण प्रशासन ने शहर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की हुई थी। शपथ ग्रहण समारोह के मद्देनजर परेड ग्राउंड के आसपास जीरो जोन घोषित रहा। सुरक्षा कर्मी निर्धारित समय से तीन घंटे पहले तैनाती स्थल पर पहुंच गए थे। परेड मैदान में पहुंचने वाले लोगों को चैकिंग के बाद ही शपथग्रहण स्थल तक जाने दिया गया।

सुरक्षा व्यवस्था में अपर पुलिस अधीक्षक 16, पुलिस उपाधीक्षक 20, प्रभारी निरीक्षक 22, थानाध्यक्ष 07, उपनिरीक्षक 149, मुख्य आरक्षी 50, आरक्षी, 663, महिला उपनिरीक्षक 15, महिला आरक्षी 74, यातायात निरीक्षक 02, उप-निरीक्षक 11, हेड कास्टेबल 18, कास्टेबल 38सशस्त्र पुलिसरू उप निरीक्षक 02, हेड कास्टेबल 09, कास्टेबल 48, टीयर गैस, 03 पार्टी, पीएसी 08 कंपनी, फायर सर्विस 03 यूनिट तैनात रहे।


Advertisements