“संगठन पर्व – सदस्यता अभियान 2019” का हुआ शुभारंभ

सदस्यता के लिए मोबाइल नंबर 8980808080 हुआ लॉन्च

राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पहुंचे  तेलंगाना के सिमसाबाद 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

नई दिल्ली  : भारतीय जनता पार्टी के यशस्वी राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने आज सिमसाबाद, तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी के व्यापक “संगठन पर्व – सदस्यता अभियान 2019″ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। ज्ञात हो कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक और कच्छ से लेकर कामरूप तक पूरे देश के समस्त राज्यों में विभिन्न स्थानों पर आज एक साथ “संगठन पर्व – सदस्यता अभियान 2019” का शुभारंभ किया जा रहा है। देश के लोकप्रिय, यशस्वी एवं तपोनिष्ठ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज वाराणसी (उत्तर प्रदेश) से भारतीय जनता पार्टी के व्यापक सदस्यता अभियान का शुभारंभ किया था।

भाजपा की सदस्यता प्राप्त करने के लिए एक मोबाइल नंबर 8980808080 भी लॉन्च किया गया जिस पर मिस्ड कॉल करके सदस्यता प्राप्त की जा सकती है। सके अतिरिक्त भाजपा की सदस्यता सदस्यता “ऑनलाइन” और “सदस्यता पत्रक” (जहां मोबाइल नेटवर्क नहीं हो, वहां व्यक्तिगत रूप से भर कर) द्वारा प्राप्त की जा सकेगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने वृक्षारोपण और जन संघ के पुराने सदस्यों को सम्मानित करने के साथ तेलंगाना में पार्टी के सदस्यता अभियान कार्यक्रम की शुरुआत की।

श्री शाह ने सर्वप्रथम लोक सभा चुनाव में तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी के अभूतपूर्व प्रदर्शन के लिए राज्य की जनता को हार्दिक धन्यवाद देते हुए कहा कि तेलंगाना की जनता ने 19% के वोट शेयर की जो नींव रखी है, उसके आधार पर यहाँ भी भारतीय जनता पार्टी की विजय सुनिश्चित है। उन्होंने कहा कि भले ही हमें तेलंगाना में चार ही लोक सभा सीटें आई और 19% वोट मिले लेकिन विधान सभा चुनाव के बाद से पार्टी के मेहनतकश कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में परिश्रम की जो पराकाष्ठा की, इसके आधार संगठन की बहुत बड़ी इमारत खड़ी की जा सकती है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आज जन संघ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी का भी जन्मदिन है और इसलिए भारतीय जनता पार्टी ने आज से ‘संगठन पर्व – सदस्यता अभियान’ की शुरुआत का फैसला किया। संगठन के नए पर्व की शुरुआत के अवसर पर पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं की ओर से मैं डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ जिन्होंने अपनी त्याग, तपस्या और जीवन बलिदान से जम्मू-कश्मीर को भारत के अभिन्न अंग के रूप में अक्षुण्ण रखने के लिए महती भूमिका निभाई। आज यदि जम्मू-कश्मीर भारत गणराज्य का अभिन्न अंग है तो इसके मूल में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी का बलिदान निहित है। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में भी निजाम के रजाकारों और मजलिस के जुल्म और अत्याचार का यहाँ की वीर जनता ने डट कर सामना किया और निजाम के दांत खट्टे कर हैदराबाद को भारत के साथ जोड़ने का कार्य किया, मैं इसके लिए भी वीर बलिदानी शहीदों को अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ। यदि उन्होंने रजाकारों के जुल्म के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ी होती तो देश के लिए और तेलंगाना के लिए समय और कठिन होता। उन्होंने हैदराबाद का भारत में विलय करने वाले महान लौह-पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल को भी इस अवसर पर याद किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

श्री शाह ने कहा कि हमें इस बात का गर्व है कि हम विचारधारा और संगठन के आधार पर काम करने वाली एक मात्र लोकतांत्रिक राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ता हैं। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि जो पार्टी विचारधारा और संगठन के आधार पर कार्य करती है, उनकी गति कालांतर में धीमी जरूर हो सकती है लेकिन उसकी गति निश्चित और सही दिशा में होती है और यही कारण है कि भारतीय जनता पार्टी आज यहाँ तक पहुँची है। उन्होंने कहा कि देश के चुनावी इतिहास पर गौर करें तो पता चलेगा कि चुनाव में पराजित होते ही कई पार्टियां टूट जाती हैं, बिखर जाती हैं। कांग्रेस पार्टी को ही देखें तो स्पष्ट हो जाता है कि ए, बी, सी, डी से जेड तक ऐसा कोई अक्षर नहीं कि जिसके नाम पर कांग्रेस न बनी हो। हर पराजय के साथ कांग्रेस टूटती रही है, यह उनका इतिहास रहा है। तेलुगु देशम के साथ भी यही हाल है। ये पार्टियां पराजय इसलिए सहन नहीं कर सकती क्योंकि ये जातियों, व्यक्तियों और परिवार के आधार पर चलती है पर भारतीय जनता पार्टी इस आधार पर संचालित नहीं होती, हम विचारधारा और संगठन के आधार पर कदम रखते हैं और भारत माता को विश्वगुरु के पद पर पुनः प्रतिष्ठित करने का संकल्प लेकर चलते हैं। उन्होंने कहा कि 1950 से लेकर अब तक की हमारी यात्रा में कई जय-पराजय आये लेकिन न तो हम पराजय से निराश हुए और न ही विजय से अहंकारी। हमारी यात्रा शाश्वत रूप से निरंतर चलती रही। एक समय तो संसद में हमारे केवल दो सदस्य हुआ करते थे जिस पर तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गाँधी जी ताना भी मारा करते थे – हम दो, हमारे दो लेकिन आज के हालात ये हैं कि तंज कसने वाली पार्टी को विपक्ष के नेता का पद भी नहीं मिल पाया। आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी  पूर्ण बहुमत की सरकार है, देश के 16 राज्यों में भाजपा की सरकार है क्योंकि हमारी पार्टी विचारधारा के आधार पर चलती है और संगठन के आधार पर विस्तारित होती है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि संगठन की मूल शुरुआत सदस्यता से ही होती है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि 1650 छोटी-बड़ी राजनीतिक पार्टियों में केवल और केवल भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जहां बूथ से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष तक का चुनाव समय पर और लोकतांत्रिक तरीके से संपन्न होता है क्योंकि हमारा आतंरिक लोकतंत्र मजबूत है। उन्होंने कहा कि भाजपा में दो तरह से सदस्यता होती है। पहला कि भाजपा में हर छः साल में सदस्यता का नवीनीकरण होता है क्योंकि हमारा मानना है कि जो पार्टी के सदस्य बने हैं, उन्हें पुनर्विचार का अधिकार दिया जाना चाहिए कि वे अगले छः वर्ष के लिए भी भाजपा की सदस्यता चाहते हैं अथवा नहीं। यही कारण है कि भारतीय जनता पार्टी में आजीवन सदस्यता नाम की कोई व्यवस्था नहीं है। दूसरा पार्टी के विस्तार के लिए सदस्यता जिसमें हर तीन वर्ष में 20% की वृद्धि के लिए अभियान चलाया जाता है। इस बार सदस्यता अभियान का संगठन पर्व पार्टी के विस्तार वाला कार्यक्रम है जिसमें नए लोगों को पार्टी से जोड़ना है। उन्होंने कहा कि गत संगठन पर्व के समय में भी मैं पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष था। तब तेलंगाना में 20 लाख नए सदस्यों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया था और हम लगभग 18 लाख नए सदस्यों को जोड़ने में कामयाब रहे थे। हालांकि इस बार तेलंगाना ने 12 लाख नए सदस्य का लक्ष्य निर्धारित किया है लेकिन तेलंगाना की टीम पर विश्वास रखते हुए मैं इस लक्ष्यांक को 18 लाख का रखता हूँ। हमें पुनः तेलंगाना में 18 लाख नए सदस्य बनाने हैं क्योंकि हमें यहाँ भारतीय जनता पार्टी को मजबूत बनाना है। कई बड़े नेता एवं कई बुद्धिजीवी भाजपा के साथ जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि सदस्यता ही पार्टी के विकास का आधार होती है, इसी पर पार्टी आगे बढ़ती है, चुनाव लड़ती है और विजयश्री हासिल करती है।

सदस्यता अभियान के लिए तेलंगाना इकाई को मंत्र देते हुए श्री शाह ने कहा कि इस बार का हमारा सदस्यता अभियान हर बूथ को मजबूत करने का होना चाहिए। जो बूथ हम हारे हैं, वहां सदस्यता अभियान का मुख्य फोकस होना चाहिए और यह काम वहां की जिला इकाई को करना है। उन्होंने कहा कि हमारे सर्वोच्च नेता और देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने सदस्यता अभियान के लिए हमारा मार्गदर्शन करते हुए हर बूथ को मजबूत करने का निर्देश दिया है, समाज के हर वर्ग को पार्टी से जोड़ने पर बल दिया है और भाजपा को सर्वस्पर्शी, सर्वव्यापी और सर्वसमावेशक पार्टी बनाने का लक्ष्य सामने रखा है। इसके साथ-साथ उन्होंने हर बूथ को निर्मल बूथ बनाने का भी आह्वान किया है। श्री शाह ने कहा कि हमें सदस्यता अभियान के इस संगठन पर्व में तीन काम करने हैं – हर गाँव में सदस्यता अभियान के साथ-साथ स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देना है, पार्टी के हर चुने हुए जन-प्रतिनिधि को हरित तेलंगाना के लिए कम से कम पांच वृक्षों का वृक्षारोपण करना है और गाँव में जल संचय के लिए कुछ न कुछ प्रकल्प हाथ में लेने हैं।

मोदी सरकार की सराहना करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक महीने भी नहीं बीते हैं लेकिन देश के गाँव, गरीब, किसान के लिए ढेर सरे कार्य हुए हैं। कल ही हमारी वित्त मंत्री जी ने सदन में वर्ष का बजट पेश किया है। मैं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी का हृदय की गहराइयों से धन्यवाद करना चाहता हूँ कि उन्होंने सरकार के खजाने के दरवाजे को देश के गाँव, गरीब, किसानों के लिए खोल दिए हैं। ख़ास कर मैं एक बात पर प्रधानमंत्री को अवश्य बधाई देना चाहता हूँ कि उन्होंने बड़े आत्मविश्वास के साथ 2022 तक देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की सरकार ने देश को विश्व की 11वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाया लेकिन अर्थशास्त्री प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के 10 वर्षों के कार्यकाल में इसमें एक भी पायदान का सुधार नहीं हुआ जबकि एक चायवाले गरीब घर के बेटे ने पांच वर्ष में ही देश को 11वे नंबर से विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाया। अब प्रधानमंत्री जी ने यह लक्ष्य रखा है कि 2022 में जब देश आजादी की 75वीं वर्षगाँठ मना रहा होगा तब भारत पांच ट्रिलियन इकॉनमी के साथ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी। हालांकि कल जब वित्त मंत्री जी प्रधानमंत्री जी के इस संकल्प को संसद के माध्यम से दुनिया को बता रही थी तो विपक्ष के कुछ लोग तंज कस रहे थे लेकिन उन्हें याद होना चाहिए कि जो प्रधानमंत्री भारत को 11वें स्थान से छठे स्थान की अर्थव्यवस्था बना सकता है, वह तीसरे स्थान पर भी भारत को ला सकता है। हमें इस संकल्प को पूरा करने के लिए पूरे मनोयोग से काम करना है। भारत अब हर क्षेत्र में दुनिया का नेतृत्व करना चाहता है, हम अब पीछे नहीं रह सकते।

श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का सपना है कि 2022 में जब देश आजादी की 75वीं वर्षगाँठ मना रहा होगा, तब देश में एक भी ऐसा व्यक्ति न हो जिसके पास अपना घर न हो और एक भी ऐसा घर नहीं हो जहां बिजली, पानी, शौचालय और रसोई के लिए गैस का सिलिंडर न हो। आजादी के 75 साल बाद गरीब से गरीब व्यक्ति को भी यह अधिकार होना चाहिए कि उसके पास सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हो और यह देश की सभी 130 करोड़ की आबादी के लिए होना चाहिए। इसलिए हमने ‘सबका साथ, सबका विकास’ का मंत्र अपनाया है। उन्होंने कहा कि हम समाज को तोड़ कर या समाज को विभाजित कर राजनीति नहीं करते बल्कि हमारा दायित्व देश के सभी नागरिकों का विकास करना है चाहे वे किसी भी जाति, धर्म, समुदाय का हो। यही पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के अंत्योदय का भी सिद्धांत था जिसके आधार पर हमारी सरकार काम कर रही है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि हमें आज यह देख कर सुखद अनुभव होता है कि जो कभी हमारे सदस्यता अभियान का मखौल उड़ा रहे थे, वे भी आज संगठन की शक्ति को महसूस कर सड़कों पर सदस्यता अभियान के लिए उतर रहे हैं। उन्होंने कहा कि समाज के बुद्धिजीवी वर्ग के कई बड़े लोग लगातार भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को सज्जन शक्ति का संग्रह करना चाहिए क्योंकि सज्जन शक्ति का बिखराव देश के भले के लिए नहीं हो सकता। सज्जन शक्ति का संगठन ही भाजपा का संगठन है। हर बुराई, हर चुनौती के सामने इस शक्ति का दृढ़ता के साथ एक साथ आना जरूरी है और यह हमारा दायित्व होना चाहिए।

श्री शाह ने कहा कि यह कहा जाता है कि कर्नाटक को छोड़ कर दक्षिण में भाजपा नहीं है लेकिन तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और केरल निकट भविष्य में ही एक न एक दिन जरूर भाजपा का मजबूत गढ़ बन कर उभरेगा। उन्होंने तेलंगाना भाजपा के कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा कि आप दिल में जोश, भारत माता की भक्ति और मोदी जी के नेतृत्व का विश्वास लेकर आगे बढ़ें, हम लक्ष्य को पाने में निश्चित रूप से सफल होंगे। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में  हमें पहले 19% वोट मिले थे लेकिन हमारा वोट शेयर विधान सभा चुनाव में घाट कर 4% तक आ गया था, मुझे इस बात का काफी मलाल था लेकिन मुझे यह संतोष है कि एक बार फिर हम लोक सभा चुनाव में 19% वोट शेयर हासिल करने में कामयाब रहे। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी 50% वोट शेयर का लक्ष्य लेकर आगे चल पड़ी है। इस बार के लोक सभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को देश के 17 राज्यों में 50% से अधिक वोट मिले हैं और कांग्रेस को 17 प्रदेशों में एक भी सीट नहीं मिली है लेकिन हमें तेलंगाना में 19% की यात्रा को भी 50% के पार पहुंचाना है और इसका रास्ता संगठन पर्व से ही होकर जाता है।

Advertisements