युवती ने नाबालिग किशोर से किया रेप , पहुंची जेल

0
444

पहला मामला : जब पुलिस ने पाक्सो एक्ट में गिरफ्तार कर युवती को भेजा जेल

युवती ने पहले किशोर पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए  दर्ज कराया था मुकदमा

युवती ने झूठे आरोप लगाकर किशोर का किया यौन उत्पीड़न : पुलिस 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून : उत्तराखंड के देहरदून में रेप का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां शहर कोतवाली पुलिस ने नाबालिग किशोर का रेप करने के आरोप में एक युवती को गिरफ्तार किया है। युवती ने पहले किशोर पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस जांच में जुटी तो मामला ही पलट गया। पुलिस का कहना है कि युवती ने झूठे आरोप लगाकर किशोर का यौन उत्पीड़न किया है। पुलिस का दावा है कि प्रदेश का यह पहला मामला है जब पुलिस ने पॉक्सो अधिनियम में किसी युवती को गिरफ्तार किया है। युवती को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है।
एसपी सिटी सरिता डोबाल ने बताया कि 29 दिसंबर 20 को शहर कोतवाली में एक युवती ने शिकायती पत्र देकर लड़के पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म होने का आरोप लगाया था। युवती ने खुद को पांच महीने की गर्भवती होने का दावा किया था। पुलिस ने दुष्कर्म और धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया था। शुरुआत में ही पुलिस की जांच में आरोपों में घिरे लड़के की उम्र अट्ठारह साल से कम लग रही थी जबकि युवती ने लड़के की उम्र बाइस साल होने का दावा किया था। इस मुकदमे की विवेचना उप निरीक्षक कुसुम पुरोहित को सौंपी गई। युवती ने कोर्ट में 164 के तहत हुए बयानों में भी आरोपों को दोहराया था।
लड़के के परिजनों ने आरोपों को झूठा बताकर उसके नाबालिग होने की बात कही और नगर निगम से जारी जन्म प्रमाण पत्र भी पुलिस को सौंपा था। इसमें उम्र पंद्रह साल होने की पुष्टि हुई। बताया कि विधिक प्रावधानों के अनुसार पीड़िता द्वारा लगाए गए आरोपों की साक्ष्यों के आधार पर पुष्टि नहीं हुई। इस कारण युवती द्वारा किशोर के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराकर पॉक्सो ऐक्ट के अंतर्गत धारा 4/3 (ग) का अपराध दर्ज किया गया। बुधवार को पुलिस टीम ने युवती को पॉक्सो अधिनियम में गिरफ्तार कर लिया। बताया कि युवती को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया।