-डीजी के अल्टीमेटम के बाद भी नहीं पकड़े जा रहे चेन लूटेरे !

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी में अपराधों  का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। बीते कुछ दिन में चेन लूटने की घटनाओं  ने पुलिस की कार्यशैली पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। हैरानी की बात यह है कि डीजी अशोक कुमार के थानेदारों व अधिकारियों को दिए गए अल्टीमेटम के बाद भी चेन लूटेरों को पुलिस पकड़ नहीं पा रही है। 

      बता दें कि बीते दिनों चेन लूटने की घटनाएं सामने आई थी। शहर में ऐसा कोई दिन नहीं है, जब चेन लूट, पर्स चोरी या मोबाइल लूट की घटनाएं सामने न आई हो। शहर के नेहरू कॉलोनी में रात करीब 8 बजे वीरेंद्र खंतवाल निवासी मोहकमपुर माजरी की मां विद्या देवी के गले से चेन लूट ली गई थी। घटना के वत्तफ वो घर के बाहर बरामदे में बैठी थी, तभी बाइक सवार बदमाशों ने महिला के गले से चेन लूट ली। पुलिस ने इस घटना में शिकायत तो दर्ज कर लिया है, लेकिन बदमाश पुलिस की पकड़ से अभी दूर है।

    दूसरी घटना बसंत विहार की है। शनिवार देर रात करीब सवा दस बजे कपड़ा कारोबारी हिमांशु बाधवा अपनी पत्नी के साथ घर के बाहर टहल रहे थे, तभी उस दौरान असलाह कनपटी पर रखकर बदमाशों ने उनसे चेन लूट ली। पुलिस इस घटना की कार्रवाई करने जा ही रही थी कि रविवार को एक और बड़ी लूट की वारदात हो गई। रायपुर में नकरौंदा में शुक्रवार की शाम को विवेक विहार निवासी महिला नीला देवी घर के बाहर टहल रही थी, तब बाइक सवार बदमाशों ने बाइक से उतरकर महिला के पीछे जाकर उसके गले की चेन लूट ली। यहां भी पुलिस अभी तक बदमाशों का हूलिया तक नहीं जुटा पाई है।

शहर के नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में बुधवार शाम को करीब पौने छह बजे  बद्री विहार लेन नंबर दो मोथरोवाला में रहने वाले मोहन पांडेय की मां इंदिरा देवी पांडेय पत्नी स्व- पीडी पांडेय तरुण विहार में एक परिचित के घर जा रही थी तभी 100 मीटर की दूरी पर बाइक सवार दो बदमाशों ने उनके गले से चेन झपट ली। हालांकि इस बार मामले में बीते रविवार को पुलिस ने बाइक के साथ दो आरोपियों को गिरफ्रतार कर लिया- बावजूद इसके शहर में वारदातें लगातार जारी हैं।

एसपी सिटी श्वेता चैबे के मुताबिक सभी थाना पुलिस की 5 संयुत्त टीमें बनाई गई हैं, जिसमें एसओजी को भी शामिल किया गया है। सभी घटनाओं के हूलिया का मिलान किया जा रहा है कि ये एक ही गिरोह है या फिर अलग-अलग बदमाश घटना को अंजाम दे रहे हैं। यह भी उल्लेखनीय है कि डीजी अशोक कुमार का जनपद पुलिस को दिया गया अल्टीमेटम भी पूरा हो रहा है।