• तो भाजपा संगठन चैम्पियन के जवाब मिलने के बाद लेगा निर्णय!

  • …तो तकनीकी कारणों से  टला निष्कासन

  • विधायक या सांसद को 10 दिन का नोटिस देना आवश्यक

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

प्रदेश प्रभारी पर भारी प्रदेश मीडिया प्रमुख !

मामले में प्रदेश मीडिया प्रमुख, देवेंद्र भसीन पार्टी के प्रदेश प्रभारी के बयान को झुठलाते हुए कहते हैं कि चैंपियन के निष्कासन के संबंध में प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू जी ने क्या बयान दिया, इस बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। इतना स्पष्ट है कि उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व से चैंपियन के निष्कासन की सिफारिश की है।

देहरादून : उत्तराखंड भाजपा के मीडिया प्रभारी ने खानपुर विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन के निष्कासन के संबंध में अपने ही प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू का बयान पलट दिया है। पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि चैंपियन को अभी निष्कासित नहीं किया गया है, बल्कि उन्हें निष्कासन का नोटिस दिया गया है। उन्हें उस नोटिस का जवाब 10 दिन में देना है।

उन्होंने कहा जवाब प्राप्त होने के बाद केंद्रीय नेतृत्व कार्रवाई तय करेगा। जबकि गुरुवार को पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तराखंड प्रभारी श्याम जाजू ने कहा था कि उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व से चैंपियन के निष्कासन की सिफारिश की थी, जिसे मान लिया गया है।

वहीं उन्होंने दावा किया था कि चैंपियन को निष्कासित कर दिया गया है। हालांकि पार्टी ने अपना बयान बदला है। लेकिन कई बड़े नेता दबी जुबान से चैंपियन की पार्टी से बर्खास्तगी तय मान रहे हैं।
 
शुक्रवार को भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रमुख डॉ. देवेंद्र भसीन ने प्रदेश पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में चैंपियन के निष्कासन से इनकार किया। उन्होंने दोहराया कि चैंपियन के नए वीडियो के संबंध में पार्टी ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया।

तीन माह का निलंबन अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा 

मिली जानकारी के अनुसार भाजपा द्वारा दिए गए नोटिस में उनसे पूछा गया है कि वीडियो के संदर्भ में क्यों न पार्टी से निष्कासित कर दिया जाए। नोटिस का जवाब देने के लिए उन्हें 10 दिन का समय दिया गया है। जवाब प्राप्त होने या न प्राप्त होने की दशा में संगठन अपना निर्णय लेगा। कार्रवाई की जो भी स्थिति बनेगी, उसे केंद्रीय नेतृत्व को संस्तुति भेजेगा। फ़िलहाल विधायक चैंपियन का तीन माह का निलंबन अनिश्चितकाल के लिए कर दिया गया है। 

उन्होंने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू ने भी अपने स्तर पर प्रकरण का संज्ञान लेते हुए केंद्रीय नेतृत्व से विधायक चैंपियन के निष्कासन की सिफारिश की है। किसी विधायक या सांसद को पार्टी से निष्कासित करने का अंतिम अधिकार केंद्रीय नेतृत्व को है। इसीलिए पार्टी केंद्रीय नेतृत्व से कार्रवाई की सिफारिश करेगी।

वहीं यदि सूत्रों की मानी जाय तो भाजपा से चैंपियन का निष्कासन तय है। यही वजह है कि भाजपा के प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू ने उनके निष्कासन की घोषणा करने में कोई संकोच नहीं किया। लेकिन संगठन स्तर पर किसी जनप्रतिनिधि के निष्कासन की एक प्रक्रिया है।

पार्टी अपनी इस संविधानिक प्रक्रिया से बंधी है। इसके अनुसार, किसी सांसद या विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने से पहले पार्टी को उसे 10 दिन का नोटिस देना आवश्यक है। जवाब प्राप्त होने के बाद पार्टी एक्शन ले सकती है।

Advertisements