तीन तलाक के विरोध में उत्तराखंड की दो बेटियां आईं थी आगे

महिलायें सामाजिक उत्पीड़न बचेंगी और मिलेगा अधिकार : सायरा बानू 

देहरादून: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि तीन तलाक बिल पारित होने से नए युग की शुरुआत हुई है और इससे देश की मुस्लिम बहनों को आजादी मिली है। गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास में मुस्लिम महिलाओं से भेंट के दौरान मुख्यमंत्री ने यह बात कही। इस अवसर पर तीन तलाक को लेकर कानूनी लड़ाई लड़ने वाली सायरा बानो भी मौजूद थीं।

मुख्यमंत्री ने तीन तलाक बिल को मुस्लिम महिलाओं के हित में लिया गया महत्वपूर्ण कदम बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने राज्यसभा में बहुमत में न होते हुए भी इस सामाजिक विसंगति की प्रथा का उन्मूलन किया। उन्होंने कहा कि तीन तलाक के विरोध में उत्तराखंड की दो बेटियां भी आगे आईं, जो इस लड़ाई को सुप्रीम कोर्ट तक ले गईं।

उन्होंने विशेष कर काशीपुर की सायरा बानो द्वारा किए गए संघर्ष की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह समाज में मुस्लिम महिलाओं को समानता प्रदान करने वाला ऐतिहासिक कदम है। यह देश की मुस्लिम महिलाओं को ही नहीं, बल्कि सभी महिलाओं को जीने की आजादी के साथ ही उनके मनोबल को बढ़ावा देने का भी प्रयास है।

इस अवसर पर सायरा बानो ने कहा कि तीन तलाक बिल पारित होने के बाद बनने वाले कानून से समाज में महिलाओं को उनका वाजिब अधिकार प्राप्त होगा तथा वे सामाजिक उत्पीड़न से भी बच सकेंगी।

इस अवसर पर विधायक सुरेश राठौर, उत्तराखंड हज समिति के अध्यक्ष शमीम आलम एवं बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं उपस्थित थी।

गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास में मुस्लिम महिलाओं ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से भेंट की। उन्होंने तीन तलाक बिल पास होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया ’ जागरण

Advertisements