मांगों के निस्तारण पर कोई कार्रवाई नहीं हुई इसलिए चढ़े छात्र पानी की टंकी पर 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : अधीनस्थ चयन आयोग द्वारा फॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा निरस्त नहीं कराने सम्बन्धी बयान पर सोमवार को आंदोलनकारी छात्र भड़क गए और आक्रोशित होकर पानी की टंकी पर चढ़ गए। दोनों छात्रों की पहचान बॉबी पंवार और पीसी पंत के रूप में हुई है। 

बेरोजगारों के पानी की टंकी पर चढ़के बाद बेरोजगारों का हुजूम उमड़ आया। आंदोलनकारी छात्र मुख्यमंत्री को मौके पर बुलाने की मांग कर रहे हैं। उत्तराखंड बेरोज़गार संघ के प्रदेश प्रवक्ता सुरेश का कहना है कि मांगों को लेकर कई बार सरकार को ज्ञापन सौंपा गया है लेकिन उनकी मांगों के निस्तारण के लिए कोई कार्रवाई नहीं हुई है।  

गौरतलब है कि फॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा में हुए घपले के विरोध में आमरण अनशन पर बैठे एक बेरोजगार की पिछले गुरुवार सुबह अचानक तबियत बिगड़ गई थी जिसकी तबियत ख़राब होने की सूचना पर  पुलिस बल और चिकित्सक धरनास्थल पहुंचे थे। जहां डॉक्टरों ने अनशनकारी का इलाज किया।

जबकि इससे पूर्व भी गुरुवार को अनशन पर बैठे तीन बेरोजगारों में से एक बेरोजगार पीसी पंत की अचानक तबियत बिगड़ गई। वह धरना स्थल पर ही कराहने लगे। इसे लेकर बड़ी संख्या में वहां बेरोजगार एकत्रित हो गए। यही नहीं पुलिस बल के साथ चिकित्सक भी मौके पर पहुंच गए। बेरोजगार पंत का वीपी चैक किया गया। साथ ही उनके खून की जांच भी की गई।