DGP के मोटिवेशन के बाद SP का रि-एक्शन, स्मैक तस्करों पर बड़ा एक्शन

0
367

उत्तरकाशी में 1.5 लाख की स्मैक के साथ दबोचे दो  स्मैक तस्कर 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
उत्तरकाशी : उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार गढ़वाल के दौरे से देहरादून क्या लौटे उन्होंने उत्तरकाशी जिले को नया एसपी मणिकांत मिश्रा के दिया , मणिकांत मिश्रा ने भी डीजीपी के निर्देश और उत्तराखंड को नशे के चुंगुल से छुड़ाने की मुहिम को पंख लगाते हुए जिले की पुलिस को नशे के कारोबार करने वालों पर सख्त एक्शन का आदेश दिया , जिसका परिणाम अब सामने आने लगा है।
शुक्रवार को उत्तरकाशी पुलिस ने हिमाचल से आ रहे है दो तस्करों को डेढ़ लाख की स्मैक के साथ गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। इतना ही नहीं उत्तरकाशी के नए एसपी ने पुलिस कर्मियों को आदेश दिए हैं कि इन दोनों तस्करों का पिछला अपराधिक इतिहास खंगाला जाए,और पता किया जाय कि ये लोग कब से उत्तरकाशी जिले में और बाहर कहां से स्मैक लाते हैं और कहां इसकी खपत होती है, ताकि इनके और संपर्क को भी खंगाला जाए जो युवा पीढ़ी को नशे के अँधेरे में धकेल रहे हैं और युवाओं का भविष्य बर्बाद करने पर तुले हैं।
गौरतलब हो कि डीजीपी अशोक कुमार ने सूबे के सभी कप्तानों को दिशा निर्देश दिए हैं कि नशा, महिला अपराध, जमीनी विवाद, जैसे संगीन मामलों में तुरंत कार्यवाही करें अपराधी और अपराधी किस्म के व्यक्ति को किसी भी प्रकार बख्शा नहीं जाएगा खासकर इनामी बदमाशों को चिन्हित कर और पैरोल/ज़मानत पर आए बदमाशों पर नजर रखना पुलिस टीम की मुख्य प्राथमिकता होगी।
डीजीपी द्वारा पुलिस को दिए गए इस मोटिवेशनल हिदायत के बाद उत्तरकाशी पुलिस ने नशे के खिलाफ मुहिम चलानी शुरू की है और  मुहिम रंग भी लाने लगी है जो शुक्रवार को  पुलिस ने दो स्मैक के तस्करों को दबोच लिया। उत्तरकाशी पुलिस के अधिकारियों के अनुसार शुक्रवार को जब उत्तराखंड और  हिमाचल की सीमा स्थित मोरी में हिमाचल की तरफ से आ रही कार को पुलिस ने रोका तो उसमें सवारियों को की तलाशी लेने पर पुलिस 12.60 ग्राम स्मैक मिली जिसकी अनुमानित कीमत 1.5 लाख आंकी गयी है। यह सूचना एसपी मणिकांत मिश्रा को एक मुखविर से मिली थी जिसकी सूचना पर यह कार्रवाही की गयी। 
गौरतलब हो कि पूर्व में मणिकांत मिश्रा ने बागेश्वर के एसपी रहते हुए भी वहां नशे की कई बड़ी खेप पकड़ने के साथ नष्ट की और नशे के कारोबारियों को खोज -खोजकर जेल तक पहुँचाया।  इस मामले में एसपी  मणिकांत मिश्रा से जब पूछा गया कि वे कैसे नशे पर रोक लगा पाएंगे तो उनका कहना है कि जन सहयोग और सूचना तंत्र को मजबूत करने के साथ ही पुलिस कर्मियों के मनोबल को ऊंचा रखते हुए ही अपराधियों पर नकेल कसी जा सकती है। 
पुलिस कप्तान मणिकांत मिश्रा ने शुक्रवार अपनी नशे के खिलाफ अभियान में पुलिस टीम में शामिल उप निरीक्षक  भाव सिंह चौहान, कांस्टेबल रमेश राणा और शूरवीर सिंह सभी थाना मोरी ,को दो हज़ार रूपये का नगद इनाम देने की घोषणा की है।  जबकि पुलिस द्वारा गिरफ्तार अभियुक्तों में ललित कुमार पुत्र श्री राजेन्द्र सिंह निवासी ग्राम खरसाल थाना जुब्बल जिला शिमला हाल निवासी कुड्डु थाना जुब्बल जिला शिमला उम्र 27 वर्ष और उमेश पुत्र श्री सुरेन्द्र सिंह निवासी चौरी थाना जुब्बल जिला शिमला उम्र 32 वर्ष को न्यायालय में पेश करने एक बाद जेल भेजा जा रहा है।