शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट को उनकी पहली बरसी पर नम आंखों से किया याद

मेजर चित्रेश को मरणोपरांत मिला सेना मेडल (गैलेंट्री)

0
755

पाकिस्तान वह कैंसर है, जो नासूर बन चुका है, इसलिए इसका इलाज जरूरी : शहीद के पिता श्री बिष्ट 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून। जम्मू-कश्मीर के नौसेरा सेक्टर में शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट की पहली बरसी पर उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि दी गई। शहीद के नेहरू कॉलोनी स्थित आवास पर आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में सब एरिया वेटरन सेल प्रभारी कर्नल पृथ्वीराज सिंह रावत, मसूरी विधायक गणेश जोशी, रायपुर विधायक उमेश शर्मा काऊ आदि ने शहीद के चित्र पर फूल चढ़ाएं।

इस दौरान अपने जवान बेटे को याद कर शहीद के पिता एस एस बिष्ट के आंखों से आंसू झलके। शहादत की पहली बरसी  पर नम आंखों से बेटे को याद कर पिता एसएस बिष्ट ने कहा कि बेटा देश की हिफाजत करते हुए शहीद हुआ है, इसका उन्हें गर्व है, लेकिन आखिर कब तक यूं ही हमारे बेटे शहीद होते रहेंगे। पाकिस्तान वह कैंसर है, जो नासूर बन चुका है। इसलिए इसका इलाज जरूरी हो गया है, ताकि वह फिर से जख्म न दे सके।

गौरतलब हो कि  पिछले वर्ष 16 फरवरी को राजौरी के नौसेरा सेक्टर में हुए आईईडी ब्लास्ट में वह शहीद हो गए थे। आतंकियों ने एलओसी क्रॉस कर यहां पर ई-प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस लगाया हुआ था। सूचना मिलने पर सैन्य टुकड़ी ने इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया। वह इंजीनियरिंग कोर में तैनात थे और उन्हें आईईडी डिफ्यूज्ड करने में महारत हासिल थी, लेकिन इसी बीच आईईडी ब्लास्ट होने से वह शहीद हो गए। 

वहीं मेजर चित्रेश की शहादत की खबर उस समय आई जबकि उनके घर पर शादी की तैयारियां चल रही थीं। क्योंकि मेजर चित्रेश की शादी सात मार्च 2019 को होनी थी। शादी के कार्ड भी बंट चुकेथे। इससे पहले दून का यह लाल देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गया।  है जो कि सेना दिवस पर सेना प्रमुख से उनके पिता ने प्राप्त किया था। 

मसूरी विधायक ने उन्हें ढांढस बंधाया। मसूरी विधायक जोशी ने कहा कि शहीद के परिवार के लिए उनसे जो बन पड़ेगा, वह किया जाएगा। कहा कि शहीद के पिता ने बेटे की याद में स्मारक बनाये जाने  की इच्छा जताई है। जिसे वह अवश्य पूरा करेंगे।