रेलवे अधिकारी के घर से मिले, रिश्वत में ली गई एक करोड़ 59 लाख की रकम

0
286

सीबीआई की कार्रवाई में घर से 1.59 करोड़ रुपये बरामद
देहरादून से रेलवे अधिकारी का साला और रकम देने पहुंचा कंपनी का कर्मचारी अरेस्ट
पहले भी मिल चुके थे ठेका दिलाने के नाम पररिश्वत में 60 लाख रुपये 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

दो-दो बैंकों से मंगाई गईं नोट गिनने की मशीनें

मिली जानकारी के अनुसार बरामद रकम में सभी नोट पांच सौ और दो हजार के और नोट अलग-अलग जगहों पर छुपाकर रखे गए थे। सीबीआई ने जब सभी को इकट्ठा किया और गिनने के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा व यूनियन बैंक से नोट गिनने की मशीनें मंगाई गईं। सीबीआई सूत्रों के अनुसार, नोट गिनने और पूरी फर्द बनाने में तकरीबन पांच घंटे से भी ज्यादा का समय लगा। 

देहरादून : चकरौता निवासी रेलवे अधिकारी के दून स्थित घर पर रिश्वत की रकम हवाला के जरिए पहुंचते ही सीबीआई ने अधिकारी के घर पहुँचते ही कंपनी के कर्मचारी और रकम लेने आए उसके साले को गिरफ्तार कर लिया। रविवार से सोमवार सुबह चार बजे तक चली छापेमारी की कार्रवाई में सीबीआई ने आशीर्वाद एन्क्लेव स्थित रेलवे के अधिकारी के घर से कुल 1.59 करोड़ रुपये बरामद किए, जो बेड के नीचे जूते के डिब्बों में छिपाकर रखी गई थी।

गौरतलब हो कि चकरौता निवासी पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान मालीगांव असम में तैनात हैं। उन पर आरोप है कि उन्होंने एबीसीआई इंफ्रास्ट्रक्चर नाम की कंपनी के डायरेक्टर पवन वैद से काम दिलाने के नाम पर उन्होंने एक करोड़ रुपये की रिश्वत मांगी थी। जांच के बाद सोमवार को दिल्ली में महेंद्र सिंह चौहान समेत पहले तो चार और बाद में दो और लोगों को मिलाकर कुल छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। मामले में सबूत हाथ लग जाने के बाद सीबीआई  ने महेंद्र सिंह चौहान को भी दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया।

मिली जानकारी के मुताबिक, पवन वैद ने चौहान से कहा था कि वह एक करोड़ रुपये गुवाहाटी से हवाला के जरिए दिल्ली पहुंचा रहे हैं। दिल्ली में उनका कर्मचारी भूपेंद्र रावत इस रकम को लेगा और चौहान के बताए स्थान पर पहुंचाएगा। भूपेंद्र रावत पहले भी रिश्वत के 60 लाख रुपये चौहान के देहरादून के आशीर्वाद इनक्लेब स्थित घर तक पहुंचा चुका था। इस एक करोड़ की रकम को लेने की जिम्मेदारी चौहान ने अपने साले इंद्र सिंह निवासी कोरूआ चकराता को सौंपी थी। यह रकम आशीर्वाद एन्कलेव स्थित मकान में ले जानी थी। अभी रिश्वत का लेन-देन चल ही रहा था कि सीबीआई की टीम मकान पर पहुंच गई और दोनों को वहां से रुपयों सहित गिरफ्तार कर लिया। टीम को दिल्ली सीबीआई टीम के डिप्टी एसपी पीके श्रीवास्तव ने लीड किया। इस दौरान दून सीबीआई कार्यालय से टीम साथ ली गई। दून सीबीआई कार्यालय के एसपी पीके पाणीगृही ने बताया कि दून से टीम में निरीक्षक शैलेंद्र मयाल और सुनील लखेड़ा शामिल रहे। 

मिली जानकारी के मुताबिक रेलवे अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान का साला इंद्र सिंह ही इस मकान में रहता है। पहले दिए गए 60 लाख रुपये उसने बेड के नीचे जूतों के डिब्बों में छुपाकर रखे थे। सीबीआई ने वहां से कुल 1.59 करोड़ रुपये बरामद किए हैं। मंगलवार सुबह करीब चार बजे सीबीआई दोनों आरोपियों और बरामद रकम को लेकर दिल्ली के लिए रवाना हो गई।