देहरादून के खेल गांव में आठ हजार खिलाड़ियों व अधिकारियों की रहने की होगी व्यवस्था 

हल्द्वानी के खेल गांव में चार हजार खिलाड़ियों एवं अधिकारियो के रहने की होगी व्यवस्था

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून :  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड में होने वाले आगामी राष्ट्रीय खेलों की सभी तैयारियां निर्धारित समयावधि में की जाय। वहीं उन्होंने नवम्बर 2021 में प्रस्तावित राष्ट्रीय खेलों के दृष्टिगत अक्टूबर, 2020 तक सभी तैयारियां पूर्ण करने के निर्देश भी दिये।

मुख्यमंत्री ने बुधवार को महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज रायपुर देहरादून में उत्तराखण्ड में 2021 में प्रस्तावित 38वें राष्ट्रीय खेलों की तैयारियों को लेकर बैठक की। इस दौरान उन्होंने महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज में राष्ट्रीय खेल सचिवालय का उद्घाटन भी किया।

बैठक में उन्होंने कहा कि प्रत्येक माह का टारगेट निर्धारित किया जाय व प्रतिमाह इसकी समीक्षा भी की जाय। भारत सरकार को राष्ट्रीय खेलों के आयोजन के लिए वित्तीय सहायता के लिए जो प्रस्ताव भेजे गये हैं, उनकी क्या स्थिति है, इसकी भी निरन्तर निगरानी रखी जाय। यदि कहीं पर कोई समस्या हो रही हो, तो उससे अवगत कराया जाय।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरसात के सीजन को ध्यान में रखकर कार्ययोजना बनाई जाय। राष्ट्रीय खेलों के लिए जो भी कार्य किये जा रहे हैं, खेल विशेषज्ञों व स्पोर्टस बॉडी से समन्वय कर किये जाय। जिन राज्यों में पिछले राष्ट्रीय खेल हुए हैं, उनके अनुभवों का लाभ लिया जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह आयोजन राज्य के प्रतिष्ठा से जुड़ा विषय है, इसमें सभी सम्बन्धित अधिकारी आपसी समन्वय के साथ कार्य करना सुनिश्चित करें।

गौरतलब हो कि राष्ट्रीय खेलों में 34 खेल प्रतियोगिताएं होंगी। ये प्रतियोगितायें देहरादून, हल्द्वानी, हरिद्वार, गुलरभोज, ऋषिकेश, नैनीताल, रूद्रपुर में 14 दिनों तक आयोजित की जायेंगी। देहरादून में 15 खेलों और हल्द्वानी में 08 खेलों का आयोजन किया जायेगा। बॉक्सिंग प्रतियोगिता पिथौरागढ़ में आयोजित की जायेगी। देहरादून व हल्द्वानी में एक-एक खेल गांव भी बनाया जायेगा। देहरादून के खेल गांव में आठ हजार खिलाड़ियों व अधिकारियों की रहने की व्यवस्था होगी, जबकि हल्द्वानी के खेल गांव में चार हजार खिलाड़ियों एवं अधिकारियो के रहने की व्यवस्था होगी।

इस अवसर पर खेल मंत्री अरविन्द पाण्डेय, मुख्य सचिव  उत्पल कुमार सिंह, युवा कल्याण परिषद् के उपाध्यक्ष जितेन्द्र रावत मोनी, प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार, सचिव अमित नेगी, शैलेष बगोली, बृजेश संत, पुलिस महानिदेशक (अपराध/कानून व्यवस्था) अशोक कुमार, प्रभारी सचिव एस.ए.मुरूगेशन व संबंधित विभाग के अधिकारी भी उपस्थित थे।

Advertisements