अब किसी की हिम्मत नहीं है कि गैरसैंण को लेकर ना-नुकर कर सके : हरीश रावत

0
747

हरदा ने दिखाया बड़ा दिल गैरसैंण भराड़ीसैण चयन पर सभी दलों के नेताओं को दिया श्रेय 

त्रिवेंद्र की इस घोषणा ने कांग्रेस और उत्तराखंड क्रांति दल के मंसूबों पर फेर दिया है पानी 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : गैरसैण विधानसभा सत्र के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भले ही गैरसैंण अथवा भराड़ीसैण को ग्रीष्म कालीन राजधानी बनाये जाने की घोषणा की है लेकिन त्रिवेंद्र की इस घोषणा ने कांग्रेस और उत्तराखंड क्रांति दल के मंसूबों पर पानी फेर दिया है।  दोनों ही त्रिवेंद्र के निर्णय से तब से लेकर अब तक बेसुध पड़े हुए हैं। लेकिन कांग्रेस अभी भी इसमें से कुछ न कुछ लपकने की फिराक में हैं। वहीँ यूकेडी को कुछ भी बोलते नहीं सूझ रहा है और त्रिवेंद्र विरोधियों को तो इस घोषणा से मानो सांप ही सूंघ गया है। मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने फेसबुक में अपनी बात कुछ इस तरह कही आप भी पढ़िए …… 

मुझे कई लोगों के मैसेज और टेलीफोन आ रहे हैं, वो मुझे भराड़ीसैण को लेकर बधाई दे रहे हैं, कह रहे हैं कि, बर्फ के साथ भराड़ीसैण का दृश्य अद्भुत दिखाई दे रहा था। स्थल चयन के लिये, लोग मेरी प्रशंसा कर रहे थे। मगर वास्तविकता यह है कि, स्थल का चयन का श्रेय यदि दिया जाना है, तो वो तत्कालिक हमारे स्पीकर, श्री गोविन्द सिंह कुंजवाल जी और मुझे पता चला है कि, सतपाल महाराज जी ने इस सुझाव को आगे बढ़ाया और श्री अनुसूया प्रसाद मैखुरी जी को दिया जाना चाहिये, विजय बहुगुणा जी मुख्यमंत्री थे, उनको भी यह श्रेय जाता है। मगर मैं, उन सब लोगों को जिन्हें भराड़ीसैण का स्थल पसन्द आ रहा है, बहुत धन्यवाद देना चाहता हूँ। मेरी पसन्द तो गैरसैंण से लगे हुये ढलान थे। बहरहाल मैंने, पहले से ही चयनित स्थान को ही आगे बढ़ाना और वहीं पर विधानसभा भवन बनाना उचित समझा, क्योंकि विलम्ब गैरसैंण के कौज को नुकसान पहुँचा सकता था। आज कोई भी सरकार आये, कोई उसको ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित कर रहा है, तो कोई कल उसको राजधानी घोषित करेगा। मगर बुनियाद पड़ गई, विधानसभा भवन बनने के साथ अब किसी की हिम्मत नहीं है कि, गैरसैंण को लेकर ना-नुकर कर सके।