उत्तराखंड में अब नहीं बननी चाहिए एक भी मस्जिद : विधायक महेंद्र भट्ट

0
1705

देवभूमि को देवभूमि हेतु वैधानिक स्वरूप देना होगा : भट्ट 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून : उत्तराखंड में तबलीगी जमात के लोगों के कारनामों को लेकर प्रदेश की जनता कोरोना के फैलते खौफ से दरी हुई है लेकिन इस बीच बदरीनाथ विधानसभा सीट से भाजपा विधायक महेंद्र भट्ट ने उत्तराखंड में मस्जिदों के निर्माण में रोक लगाए जाने की मांग प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री रावत से की है। उन्होंने सोशल मीडिया डाली गई अपनी पोस्ट में कहा कि उत्तराखंड को देवभूमि कहा जाता है और अब सरकार को देवभूमि में नई मस्जिदों के निर्माण पर रोक लगानी चाहिए।

सोशल मीडिया पर की गई अपनी टिप्पणी के बाद विधायक श्री भट्ट ने कहा कि जब मक्का-मदीना में मंदिर का निर्माण नहीं हो सकता तो वैसे ही देवभूमि में भी इस पर रोक लगनी चाहिए। उनका यह बयान ऐसे समय पर आया है जब देश के साथ ही उत्तराखंड में जमातियों के कारण कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में एकाएक वृद्धि हुई है , और हर कोई तबलीगी जमात की रहस्यमयी करतूतों से नाराज है।

गौरतलब हो कि विधायक महेंद्र भट्ट ने कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर नजीबाबाद (बिजनौर, उप्र.) से पहाड़ों पर आ रही सब्जी न खरीदने की बात सोशल मीडिया पर कही थी, जिसका पर्वतीय जनता ने खुलकर समर्थन किया। इतना ही नहीं उन्होंने बाहरी लोगों के सैलून में भी न जाने की बात कही थी। इसके बाद अब उन्होंने मस्जिदों के निर्माण पर रोक को लेकर टिप्पणी करते हुए कहा कि बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री जैसे धार्मिक स्थानों में पहले से ही मस्जिद निर्माण पर रोक है। उन्होंने कहा कि पूरे उत्तराखंड में मस्जिदों के निर्माण पूरी तरह रोक लगाई जानी चाहिए।

उन्होंने मुख्यमंत्री से निवेदन करते हुए कहा कि उत्तराखंड देवभूमि है। देवभूमि को देवभूमि हेतु वैधानिक स्वरूप देना होगा। जैसे हरिद्वार,ऋषिकेश,देवप्रयाग, बद्रीनाथ,केदारनाथ, गंगोत्री,यमनोत्री,रुद्रप्रयाग, जोशीमठ सहित अनेको स्थानों में मस्जिद निर्माण पर रोक है। तो इस देवभूमि में पूरे उत्तराखंड में मस्जिद निर्माण पर रोक लगें,और साथ ही उन्होंने कहा है कि हिन्दू देवभूमि स्थल पर मेरे मुस्लिम भाई भी नहीं चाहेंगे कि जिस राज्य को देवभूमि घोषित कर दिया जाय,वहां मस्जिद निर्माण किया जाय।ये शायद उनके धर्म के भी खिलाफ होगा।