नयी दिल्ली : उत्तराखंड राज्य में बागेश्वर के रहने वाले नितेन्द्र सिंह रावत ने दिल्ली हाफ मैराथन में नेशनल रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम करते हुए सूबे सहित बागेश्वर जिले का नाम रोशन तो किया ही साथ ही एक इतिहास भी बना दिया है क्योंकि  इससे पहले हाफ मैराथन का रिकॉर्ड राजस्थान के दीपचंद के नाम था।

नई दिल्ली में रविवार को एयरटेल वर्ल्ड हाफ मैराथन का आयोजन हुआ  जिसमें कई देशी और  विदेशी धावकों ने भी प्रतिभाग किया। उत्तराखंड के नितेन्द्र ने मीट रिकॉर्ड के साथ साथ नेशनल रिकॉर्ड बनाते हुए प्रथम स्थान हासिल किया। नितेन्द्र ने एक घंटा 38 मिनट 53 सेकेंड में दौड़ पूरी कर स्वर्ण पदक प्राप्त  किया ।

सेना के जवान नितेन्द्र से पहले हाफ मैराथन का नेशनल रिकॉर्ड राजस्थान के दीपचंद के नाम था। वर्ष 2009 में दीपचंद ने एक घंटा चार मिनट में हाफ मैराथन पूरी की थी। नितेन्द्र के कोच गैरसेंण निवासी सुरेंद्र सिंह भंडारी ने बताया कि दिल्ली मैराथन विश्व की टॉप क्लास मैराथन में से एक है। केंद्रीय खेलमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर भी इस मैराथन में उपस्थित थे और उन्होंने नितेन्द्र को बधाई दी है।

कोच भंडारी ने बताया कि नितेन्द्र वर्ष 2013 में 5000 मीटर दौड़ के नेशनल चैंपियन रहे हैं। वर्ष 2015 से उन्होंने मैराथन शुरू की और इसी साल रियो ओलिंपिक की फुल मैराथन में देश का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने अपने शिष्य नितेन्द्र की इस उपलब्धि पर देशवासियों का आभार व्यक्त किया है।

Advertisements