केंद्रीय पर्यवेक्षक केंद्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने की बंशीधर भगत के नाम की घोषणा 

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उनका फूलमालाओं व पुष्पगुच्छ देकर किया  स्वागत 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : वरिष्ठ विधायक बंशीधर भगत के सौर नए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष का ताज़ सज गया गया है यानि भाजपा के कई धुरंधरों को पछाड़ते हुए केन्द्रीय आला कमान और प्रदेश के नेताओं की पसंद बंसीधर भगत को नए प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गयी है।

भाजपा के प्रदेश पार्टी कार्यालय में बंशीधर भगत को केंद्रीय पर्यवेक्षक केंद्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल की मौजूदगी में उन्हें उत्तराखंड का नया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चुना गया। केंद्रीय पर्यवेक्षक केंद्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने उनके नाम की जैसे ही घोषणा की वैसे ही भाजपा की परम्परानुसार सभी दावेदारों ने बंशीधर भगत के समर्थन में नारेबाजी की जबकि पूर्व हो चुके पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उनका फूलमालाओं व पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया।

उत्तराखंड भाजपा के अबतक के प्रदेश अध्यक्ष

पूरन चंद शर्मा – 2000 से 2002
मनोहर कांत ध्यानी – 2002 से 2003 
भगत सिंह कोश्यारी – 2003 से 2007
बच्ची सिंह रावत – 2007 से 2009
बिशन सिंह चुफाल – 2009 से 2013 
तीरथ सिंह रावत – 2013 से 2015 
अजय भट्ट – 2015 से 2020

इस दौरान पर्यवेक्षक केंद्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल भाजपा प्रदेश कार्यालय में नए अध्यक्ष बंसीधर भगत को प्रमाण पत्र सौंपा। वहीं कार्यालय के बाहर भाजपा कार्यकर्ताओं और भगत के समर्थकों की भीड़ लगी रही। जबकि हल्द्वानी से मिली जानकारी के अनुसार पार्टी के कुमायूं अंचल कार्यालय में भी कार्यकर्ताओं ने जमकर आतिशबाजी की है।

गौरतलब हो कि सियासी हलकों में गर्म चर्चाओं में वरिष्ठ विधायक बंशीधर भगत का नाम सबसे आगे चल रहा था। क्षेत्रीय व जातीय समीकरण भगत के पक्ष में माने जा रहे थे। इस बीच पूर्व प्रदेश अध्यक्ष पूरन चंद शर्मा के भाई कैलाश शर्मा का नाम भी अचानक चर्चा में आ गया था। जबकि विधायक पुष्कर सिंह धामी और कैलाश पंत का नाम भी खूब चर्चाओं में रहा लेकिन आखिरकार बाज़ी भाजपा के वरिष्ठ नेता बंशीधर भगत के हाथ लगी। 

Advertisements