भाजपा को वोट न देने वालों का भी दिल जीत कर दिखाएं : मोदी

भाजपा सांसदों के दो दिन के अभ्यास वर्ग का समापन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ कहा कि वह अभी से 2024 की तैयारी शुरू कर दें। उन्होंने कहा कि ऐसी तैयारी और काम करो कि तब अपने बूते जीत कर आना, यह मत सोचना कि मोदी के नाम पर जीत जाएंगे।

0
164
  • मोदी ने सांसदों से कहा 2024 की तैयारी शुरू कर दो

  • भाजपा सांसदों का दो दिवसीय का अभ्यास वर्ग समाप्त

  • मंत्री हर माह सांसदों से डिनर पर करेंगे चर्चा : जोशी

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा सांसदों के अभ्यास वर्ग के दौरान एक शिक्षक के रूप में नज़र आये. उन्होंने भाजपा सांसदों से साफ कहा कि वह अभी से 2024 की तैयारी शुरू कर दें। उन्होंने कहा कि ऐसी तैयारी और काम करो कि तब अपने बूते जीत कर आना, यह मत सोचना कि मोदी के नाम पर जीत जाएंगे। पीएम ने कहा कि मेरी जिम्मेदारी नहीं है जिताने की, अपना काम ऐसा करो कि लोग खुद चुनकर भेजें।

‘जिन्होंने भाजपा को वोट नहीं दिया, उनका भी दिल जीतें’ 

संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने पत्रकारों को बताया कि मोदी ने सांसदों से कहा कि वे उन लोगों के बारे में नकारात्मक ख्याल ना पालें जिन्होंने उन्हें वोट नहीं दिया, बल्कि इस तरह का आचरण करें जिससे उनका भी दिल जीता जा सके। मोदी ने कहा, ‘आपको हर व्यक्ति के कल्याण की राजनीति करनी चाहिए। उन्हें सकारात्मक होना चाहिए और उन लोगों के प्रति नकारात्मक सोच नहीं होनी चाहिए जिन्होंने पार्टी के पक्ष में वोट नहीं डाला। आपका काम और आचरण देख वे आपके करीब आएंगे।’ 

उन्होंने भाजपा सांसदों को सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ने और जिन लोगों ने चुनाव में वोट नहीं दिया है, उनका भी दिल जीतने की कोशिश जारी रखने की सलाह दी है। भाजपा सांसदों के दो दिन के अभ्यास वर्ग में सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के बारे में सांसदों को पूरी तरह से अवगत कराने के लिए मंत्रियों की ओर से 20-25 सांसदों के समूह को भोजन पर आमंत्रित करने का फैसला लिया गया।

वहीं सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने भाजपा सांसदों से कहा कि अपने अंदर यह भाव न आने दें कि आप खुद की वजह से जीते हैं, किसी की भी जीत में सबका सहयोग होता है इसलिए कार्यकर्ताओं और लोगों को कभी नजरअंदाज ना करें। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने सांसदों से सोच समझकर बोलने को कहा। पीएम ने कहा कि लोग आपके बात करने के तरीके से लेकर आपने जीवन जीने की शैली तक सब पर ध्यान देते हैं। 

दोनों ही दिन प्रधानमंत्री खुद को पार्टी के एक कार्यकर्ता के रूप में पेश करते हुए बीच की पंक्तियों में बैठे दिखे। अभ्यास वर्ग को मोदी के अलावा भाजपा अध्यक्ष व गृहमंत्री अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई नेताओं ने संबोधित किया।

अपने परिवार की भी देखरेख करें’ 

प्रधानमंत्री ने सांसदों से संगठन के साथ ही परिवार का और अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने को कहा। उन्होंने कहा कि रेग्युलर चेकअप कराते रहें, साथ ही परिवार का भी ध्यान रखें। मोदी ने कहा कि हम संगठन में काम करते करते परिवार को भूल जाते हैं, बेटी कितनी बड़ी हो गई, बेटा क्या कर रहा है, इन सबका भी ख्याल रखें। 

लोकसभा और राज्यसभा के भाजपा के 380 से अधिक सांसदों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से तैयारी शुरू करने का आह्वान किया। सांसदों को अपने संसदीय क्षेत्र में अपने काम और व्यवहार के बल पर लोगों का भरोसा जीतने को कहा, ताकि वे अगले चुनाव में दोबारा जीत हासिल कर सकें। इसके लिए उन्होंने भाजपा सांसदों को नकारात्मक सोच से दूर रहने की सलाह दी।

जनता के साथ लाइन में लगने में क्या खराबी ?  

मोदी ने कहा कि अगर आप एयरपोर्ट पर जाते हैं और प्रोटोकॉल के नाम पर लाइन में नहीं लगते हैं तो लोग भले कहते कुछ नहीं हैं लेकिन मन ही मन उन्हें यह पसंद नहीं आता। अगर आप लाइन में लग जाएंगे तो इसमें क्या खराब है, फ्लाइट तो अपने वक्त से ही जाएगी, आप पहले फ्लाइट में बैठकर क्या कर लेंगे। पीएम ने कहा कि अगर आप लाइन में लगते हैं और किसी दिन बिना लाइन के जाने की जरूरत पड़ती है तो लोग खुद कहेंगे कि वैसे तो लाइन में लगते हैं पर आज कुछ जरूरी होगा। 

दो दिन के अभ्यास वर्ग के बाद सभी सांसदों को अपने-अपने इलाके में सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों को आम जनता का पहुंचाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। मंत्रियों को कहा गया कि वे सांसदों को योजनाओं और कार्यक्रमों के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध कराएं। इसके लिए मंत्रियों को सांसदों के साथ नियमित रूप से मुलाकात करने को कहा गया है।

संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया कि सांसदों और मंत्रियों के बीच संवाद बढ़ाने की कार्ययोजना भी तैयार कर ली गई है। इसके लिए सभी मंत्रियों को महीने में एक बार 20-25 सांसदों को रात्रिभोज पर आमंत्रित करने का सुझाव दिया गया है। रात्रिभोज के दौरान मंत्री सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के बारे में सांसदों के साथ विस्तार से विचार-विमर्श करेंगे।

अपने अंदर के विद्यार्थी को जीवित रखें

प्रल्हाद जोशी के मुताबिक पीएम ने सांसदों से कहा वे अपने मन के विद्यार्थी को जीवित रखें और हमेशा कुछ नया सीखने का प्रयास करें उन्होंने त्रिपुरा में स्थानीय निकाय में जीत का जिक्र किया कहा कि संगठन मज़बूत होने से हम चुनाव जीतते हैं 2014 में जब वे पीएम बने थे तब सूरजकुंड में ऐसा वर्ग हुआ था उससे बहुत फायदा हुआ। 

प्रह्लाद जोशी ने साफ कर दिया कि मंत्रियों के साथ सांसदों के रात्रिभोज का कार्यक्रम सिर्फ संसद सत्र के दौरान नहीं होगा, बल्कि यह नियमित तरीके से हर महीने चलेगा। उल्लेखनीय है कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की ओर से पार्टी के सांसदों और विधायकों को जनता के साथ सीधा संवाद करने की हिदायतें जारी की जाती रही हैं।