पहाड़ के भोले -भाले युवा ”गैंग” के जाल में रहे हैं फंस

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून। निजी स्वार्थ पूरे न होने पर सूबे के मुख्यमंत्री को बदनाम करने के लिए धंधेबाज पहाड़ के भोले युवाओं को गुमराह कर रहा है। ये धंधेबाज पहले उन्हें टूल की तरह इस्तेमाल कर रहा है और फिर सहानुभूति दिखाकर और युवाओं को अपने पक्ष में करने का साजिश रच रहा है। परिणामस्वरूप इसे सीधे – साधे शिक्षा ग्रहण कर रहे युवा इसके बहकावे में आकर आज कानूनी दांव -पेंच में फंसते जा रहे हैं जिससे अब इनके भविष्य तक पर  संकट के बादल छाने लगे हैं। 

पिछली सरकारों का तरह त्रिवेंद्र सरकार इस धंधेबाज के हाथों का खिलौना नहीं बनी तो इसने मुख्यमंत्री के खिलाफ एक अभियान सा चला रखा है। सोशल मीडिया का इस्तेमाल करके यह धंधेबाज पहाड़ के भोले युवाओं को गुमराह कर रहा है। इस मामले में खुद को पहाड़ का हितैषी बताने वाले कुछ ”गैंग” के अन्य लोग भी शामिल बताए जा रहे हैं। ये लोग अपने सियासी आका के इशारे पर ही ऐसा कर रहे हैं।

पहाड़ के भोले -भाले युवा इस चौकड़ी के जाल में फंस रहे हैं। पहाड़ के एक युवा को इन लोगों ने एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करके उससे एक वीडियो सोशल मीडिया में डलवाया और मुख्यमंत्री को गलत साबित करने की कोशिश की और उनके IIT रुड़की वाले सम्बोधन में काट-छांटकर उससे यह सन्देश देने की कोशिश की कि मुख्यमंत्री का सम्बोधन गलत था।

एक व्यक्ति ने इस युवा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई तो ये धंधेबाज अब युवा के प्रति सहानुभूति दर्शा रहा है। सोशल मीडिया में इस ”गैंग” की पोस्ट पर आ रहे तमाम बुद्धिजीवी पहाड़ी लोगों के कमेंट यह साफ इशारा कर रहे हैं कि यह धंधेबाज पहाड़ के भोले युवाओं का इस्तेमाल कर रहा है।

यह भी पढ़िए …..

मुख्यमंत्री के IIT रुड़की में दिए भाषण में दुर्भावनापूर्ण छेड़छाड़ और वायरल पर मामला दर्ज

Advertisements