मुख्यमंत्री से शहीद संदीप थापा को दी भावपूर्ण श्रद्धान्जलि 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून । जम्मू कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में शहीद हुए देहरादून के लाल संदीप थापा का पार्थिव शरीर सेना के हेलीकॉप्टर द्वारा दोपहर डेढ़ बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पहुंचा। खराब मौसम के कारण सेना के हेलीकॉप्टर को यहां पहुंचने में देरी हुई। संदीप की अंतिम यात्रा में लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए, उन्हें नम आंखों से विदाई दी।

वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सैन्यधाम उत्तराखंड की गौरवशाली परंपरा का निर्वहन करते हुए नौशेरा में शहीद हुए संदीप थापा को भावपूर्ण श्रद्धान्जलि अर्पित की।हमें अपनी सेनाओं पर पूर्ण विश्वास है कि संदीप थापा का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। उन्होंने कहा थापा परिवार के साथ हम सबकी गहरी संवेदनाएं हैं। सरकार हर समय उनके साथ खड़ी है।

सेना के जवानों, परिजनों और अधिकारियों द्वारा एयरपोर्ट पर पार्थिव शरीर पर श्रद्धासुमन अर्पित किए गए और श्रद्धांजलि दी गई। श्रद्धांजलि देने के बाद उनके पार्थिव शरीर को उनके घर सहसपुर लाया गया। दोपहर बाद सैन्य सम्मान के साथ उन्हें प्रेमनगर स्थित घाट पर अंतिम विदाई दी गयी। इस मौके पर सैकड़ों की भीड के साथ साथ कई गणमान्य लोग मौजूद रहे। लोगों ने नम आंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी।

संदीप थापा 3/5 गोरखा राइफल में लांसनायक के पद पर तैनात थे। वर्तमान में उनकी तैनाती राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में थी। संदीप मूलरूप से ग्राम पौंडवाला राजावाला सेलाकुई के रहने वाले थे। शहीद संदीप थापा 33 वर्ष के थे। वर्ष 2004 में संदीप भारतीय सेना में शामिल हुए थे। गत जून माह में संदीप आखिरी बार अपने घर आए थे। इसके बाद से उनके परिवार का उनसे कोई संपर्क नहीं हुआ। वर्ष 2012 में संदीप का विवाह दूधली, डोईवाला निवासी निशा थापा के साथ हुआ था। उनका तीन साल का बेटा भी है। संदीप थापा के छोटे भाई नवीन थापा भी उक्त बटालियन में राजौरी में तैनात हैं।

Advertisements