देश के सबसे बड़े कोर्ट का फैसला है, लिहाजा इस फैसले का सुप्रीम सम्मान : राजनाथ

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अयोध्या मामले में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को एतिहासिक बताते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले में किसी की हार, जीत का कोई मतलब नहीं है। उन्होंने सभी से शांति बनाए रखने की अपील की।

शनिवार को सीएम आवास में मीडिया से बातचीत में केंद्रीय मंत्री राजनाथ ने इस मौके पर देशवासियों से शांति की अपील की है। उन्होंने कहा कि यह देश के सबसे बड़े कोर्ट का फैसला है, लिहाजा इस फैसले का सुप्रीम सम्मान भी होना चाहिए। इस फैसले को किसी भी तरह हार और जीत के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।

राजनाथ सिंह ने फैसले के बाद विपक्ष के आए टिप्पणियों पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया। कहा को जब मौका आएगा, इसका भी जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के सीमावर्ती क्षेत्रों में पलायन पर अंकुश के लिए प्लान तैयार किया जा रहा है। इस बाबत सीएम त्रिवेंद्र रावत से भी उनकी चर्चा हो चुकी है। 

वहीँ मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अयोध्या में रामजन्म भूमि पर मा0 सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिये जाने वाले निर्णय को सकारात्मक रूप से लेने की प्रदेशवासियों से अपील की है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की गलत बयानबाजी एवं अफवाहों पर ध्यान न दें।

उन्होंने कहा कि हमारा प्रदेश शांति प्रिय प्रदेश है। हमे हर प्रयास से आपसी सौहार्द बनाये रखना होगा। इस सम्बन्ध में उन्होंने सभी से सकारात्मक सोच के साथ आपसी सहयोग की अपेक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में इसके दृष्टिगत व्यापक सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किये गये हैं।

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करेगी। यह बहुत ही अच्छा निर्णय है। 40 दिन में कोर्ट ने फैसला सुनाकर इतिहास रचा है।

Advertisements