सीएम ने दिए सम्पूर्ण घटना की मजिस्ट्रेटी जांच कराए जाने निर्देश

0
406

गैरसैंण विधानसभा सत्र का घेराव करने पहुंचे आंदोलनकारियों पर लाठीचार्ज का मामला 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
गैरसैंण  :नंदप्रयागजनपद चमोली के गैरसैण के समीप दीवालीखाल नामक स्थान पर घाट ब्लाक के लोगों द्वारा सड़क चौड़ीकरण को लेकर किये जा रहे प्रदर्शन के दौरान ग्रामीणों व पुलिस प्रशासन के बीच घटित घटना को मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा गंभीरता से लिया गया है तथा सम्पूर्ण घटना की मजिस्ट्रेटी जांच कराए जाने निर्देश दिए हैं ।

[videopress Jwn8pUPM]

गौरतलब हो कि घाट सड़क चौड़ीकरण की मांग को लेकर पिछले दो महीने से भी ज्यादा वक्त से आंदोलन कर रहे ग्रामीणों पर आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की पुलिस ने लाठियां बरसाई. गैरसैंण विधानसभा सत्र का घेराव करने पहुंची हजारों की भीड़ पर पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल करने केस साथ ही लाठी चार्ज भी किया है। 
सरकारी प्रवक्ता, मदन कौशिक ने कहा यह घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार हमेशा से सभी वर्गों की, आंदोलनकारियों की बात सुनती आई है। इस मामले में उनकी बात सुनी जाएगी और उचित कार्यवाही भी होगी।

पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने गैरसैंण में नंदप्रयाग-घाट सड़़क की माँग कर रहे आंदोलनकारियों पर पुलिस द्वारा की गई बर्बरता पूर्वक लाठीचार्ज की घोर निंदा की है, उन्होंने कहा है कि नंदप्रयाग-घाट क्षेत्र के लोग लम्बे समय से सड़क की माँग को लेकर आंदोलनरत हैं, आंदोलनरत लोगों पर सरकार के इशारे पर पुलिस से बर्बरता पूर्वक लाठीचार्ज कराकर सरकार ने अपनी कायरता का परिचय दिया है, जिसमें कई माताएं बहने भी बुरी तरह घायल हुई हैं, इसकी जितनी भी निंदा की जाय कम है।
वहीं पूर्व मुख्यमंत्री ने महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण को असत्य बातों का पुलिंदा बताया है, उन्होंने कहा कि भाषण में उल्लेखित तथ्य यथार्थ से मेल नहीं खातें हैं और कांग्रेस विधानमंडल ने राज्यपाल के अभिभाषण का बहिष्कार कर जनता की भावनाओं को व्यक्त कर उचित कदम उठाया है, कांग्रेस जनभावनाओं के साथ हर पल खड़ी रहेगी।