जानिए डॉ.हर्षवर्धन ने ऐसा क्यों कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अगले ढाई महीने क्यों हैं अहम?

0
198

भारत में विश्व में कोविड-19 के मरीजों के रोग से उबरने की दर सबसे अधिक

महामारी से होने वाली मौत की दर अन्य देशों के मुकाबले भारत में है बहुत कम 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
नई दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को कहा कि सर्दियों और त्योहारों का मौसम रहने के चलते अगले ढाई महीने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में काफी महत्वपूर्ण होने जा रहे हैं। उन्होंने कहा, ”अगले ढाई महीने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में हमारे लिये काफी महत्वपूर्ण होने जा रहे हैं क्योंकि सर्दियों और त्योहारों का मौसम रहेगा। यह हर नागरिक की जिम्मेदारी है कि वह एहितयात में कमी ना करे और संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिये कोविड-19 से जुड़े दिशानिर्देशों का उपयुक्त रूप से पालन करे।” 
डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में कोविड-19 के तीन टीकों को विकसित करने का कार्य प्रगति पर है और उनमें से एक क्लीनिकल परीक्षण के तीसरे चरण में है, जबकि दो अन्य दूसरे चरण के परीक्षण में है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने उम्मीद जताई कि भारत जल्द ही कोराना वायरस के टीके का घरेलू स्तर पर उत्पादन शुरू कर देगा। 
डॉ. हर्षवर्धन कोविड-19 पर उपयुक्त व्यवहार के विषय पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग तथा वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के संस्थान प्रमुखों और  निदेशकों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि वायरस ने पूरी दुनिया को प्रतिकूल रूप से प्रभावित किया है लेकिन सामान्य एहतियाती उपाय वायरस संक्रमण को काफी हद तक रोकने में कारगर हैं। 
डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ”मास्क पहनना, खासतौर पर सार्वजनिक स्थलों पर और स्वच्छता के शिष्टाचार का पालन करना सामाजिक टीके के सिद्धांत के मूलभूत तत्व हैं। उन्होंने रोग के प्रसार को प्रभावी तरीके से रोकने के लिये शारीरिक दूरी की अहमियत पर भी जोर दिया।” 
उन्होंने इस बात का जिक्र किया और संतोष जताते हुए कहा कि भारत में विश्व में कोविड-19 के मरीजों के इस रोग से उबरने की दर सबसे अधिक है, जबकि इस महामारी से होने वाली मौत की दर भी अन्य देशों के मुकाबले बहुत कम है।