किट्टी घोटाले के आरोपी हैं साहिबा जैन और निशांत जैन !

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून । उत्तराखंड में किटी फाइनेंस के सबसे बड़े घोटाले के मुख्य आरोपियों साहिबा जैन और उनके पति निशांत जैन की आज सीजीएम कोर्ट ने जमानत खारिज़ कर दी।
उल्लेखनीय है कि राजधानी देहरादून में हज़ारों लोगों का किट्टी फाइनेंस द्वारा करोड़ो रूपये हड़पने के बाद जब साहिबा और उसका पति भागने की फिराक में थे तभी निवेशकों ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कर जैन दंपत्ति को गिरफ्तार करवा दिया था।

पीड़ित निवेशकों की ओर से पैरवी करते हुए युवा विद्वान अधिवक्ता शिवा वर्मा और शासकीय अधिवक्ता यशदीप श्रीवास्तव ने धोखाधड़ी के सरगना साहिबा और उसके पति निशांत की जमानत का कड़ा विरोध किया। अधिवक्ता शिवा ने दलील दी कि अगर जैन दंपत्ति को जमानत मिल गयी तो यह भी विजय माल्या हो जाएंगे जिनको ढूंढना उत्तराखंड की पुलिस के बूते से बाहर हो जाएगा। और हज़ारों की संख्या में पीड़ित निवेशकों को कभी न्याय नही मिल पायेगा।

पीड़ितों का पक्ष रखते हुए अधिवक्ता शिवा वर्मा ने इस फाइनेंस घोटाले को गिरोहबंद तरीके से जनता से की गई लूट की संज्ञा दी। अभियुक्त जैन दम्पति का बचाव करते हुए विद्वान अधिवक्ता एम एम लाम्बा, उमेश अरोरा और श्री अवस्थी ने दलीलें प्रस्तुत की।

लेकिन बचाव पक्ष की दलीलों को दरकिनार करते हुए न्यायलय ने साहिबा जैन और निशांत जैन की जमानत खारिज़ कर दी। अधिवक्ता शिवा वर्मा ने न्यायलय के निर्णय को पीड़ितों और न्याय की जीत बताया है।

Advertisements