कांग्रेस, डीएमके, एनसीपी, टीडीपी और जेडीयू किया विरोध

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

नई दिल्ली : गुरुवार को मोदी-2 सरकार के लिए संसद का सत्र सरकार के लिए बेहद महत्वपूर्ण रहा आज लोकसभा में तीन तलाक बिल (Triple Talaq Bill) पास हो गया। लोकसभा में बिल के लिए हुए मतदान के दौरान बिल के पक्ष में 303 वोट पड़े है जबकि बिल के खिलाफ 82 वोट पड़े।

टीएमसी, जेडीयू और कांग्रेस सांसदों ने मतदान का बहिष्कार करते हुए सदन से वॉक आउट करते हुए अपना मंसूबा साफ़ कर दिया कि वे मुस्लिम महिलाओं के साथ नहीं हैं और न उन्हें इन महिलाओं से कोई हमदर्दी ही है। तीन तलाक बिल लोकसभा में पास होने के बाद बिल पर संशोधन पर वोटिंग की गई और ओवैसी की ओर से लाए गए संशोधन को सदन ने ध्वनिमत से खारिज कर दिया। वहीं केंद्र सरकार ने दावा किया कि तीन तलाक का विधेयक मुस्लिम महिलाओं को लिंग समानता प्रदान करेगा और न्‍याय सुनिश्चित करेगा। 

गुरुवार बिल पर दिन भर बहस चली और शाम को यह बिल लोकसभा में पास हो गया। इस बिल के पक्ष में जहां 303 और विपक्ष में 82 वोट पड़े. कांग्रेस, डीएमके, एनसीपी, टीडीपी और जेडीयू ने इस बिल का विरोध किया।

हालाँकि यह बिल पिछली लोकसभा में ही पास हो गया था, लेकिन राज्‍यसभा ने इस बिल को वापस कर दिया था। 16वीं लोकसभा का कार्यकाल खत्‍म होने के बाद मोदी सरकार कुछ बदलावों के साथ इस बिल को दोबारा एक बार फिर लोकसभा पटल पर रखा जो आज पास हो गया। वहीं संसदीय कार्य मंत्री ने सत्र को 7 अगस्‍त तक बढ़ाने की मांग करने के बाद लोकसभा स्‍पीकर की अनुमति के बाद सदन को 7 अगस्‍त तक बढ़ा दिया गया है।

Advertisements