• उत्तराखण्ड में हाथियों की सुरक्षा पर बड़ा सवाल 

  • उत्तराखंड में अभी 18 सौ से अधिक हाथी मौजूद

  • 11 हाथी कॉरिडोर पर अतिक्रमण कर दिया गया

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून । पहाड़ी राज्य उत्तराखण्ड का साठ प्रतिशत से भी अधिक भू-भाग वनों से घिरा है। जिसके चलते उत्तराखण्ड वन्यजीव संसार की दृष्टि से काफी संमृद्धशाली माना जाता है। किन्तु पिछले एक दशक से भी अधिक समय में मानव और वन्यजीव संघर्ष में कई वन्यजीव अपनी जान गंवा चुके है। उत्तराखण्ड का देहरादून व हरिद्वार के मध्य स्थित राजाजी नेशनल पार्क व रामनगर क्षेत्र में स्थित टाईगर रिजर्व पार्क एशियाई हाथियों का मुख्यवास स्थल माना जाता है। किन्तु पिछले दो दशको में हाथियों की अकाल मौत यह साबित कर रही है कि अब उत्तराखण्ड के क्षेत्र हाथियों के लिए असुरक्षित होते जा रहे हैै। साथ ही पिछले कुछ दिनों में लगातार पांच गुलदारों की मौत ने भी वन विभाग के माथे पर बल डाले हुए हैं।

भले ही उत्तराखंड  हाथी समेत अन्य वन्य जीवों और बायोडायवर्सिटी के लिहाज से धनी माना जाता है। इस धरती का सबसे बड़े प्राणी की संख्या भी यहां अच्छी खासी है लेकिन आंकड़े बता रहे हैं कि देवभूमि हाथी की कब्रगाह बनती जा रही है। राज्य बनने के बाद से अब तक यहां चार सौ हाथियों की मौत हो चुकी है। इनमें से प्राकृतिक मौत सिर्फ डेढ़ सौ हाथियों को ही नसीब हुई है।

त्तराखंड में अभी 18 सौ से अधिक हाथी मौजूद हैं लेकिन चिंता यहां इनकी अकाल मृत्यु की बड़ी संख्या को लेकर भी है। साल 2000 से लेकर अभी तक मात्र डेढ़ सौ हाथी अपनी स्वाभाविक मौत मरे हैं बाकी करीब ढाई सौ हाथी करंट लगने, ट्रेन या रोड एक्सीडेंट होने या फिर शिकारियों के नापाक इरादों की वजह से मारे गए हैं।

बीते 19 साल में सिर्फ बिजली के तारों की चपेट में आने से 37 हाथी मारे गए हैं और इतने ही हाथियों  की ट्रेन से कटकर मौत हुई है। इससे चिंतित भारतीय वन्य जीव संस्थान के वैज्ञानिक अब एक ऐसा सेसमिक सेंसर बनाने  के करीब पहुंच चुके हैं, जिससे रेलवे ट्रेक पर आने से पहले ही हाथियों की सूचना प्राप्त हो जाएगी। समस्या  सिर्फ रेलवे ट्रेक ही नहीं हैं, हाथियों के आने-जाने के जो पारंपरिक रास्ते यानि एलिफेंट कॉरीडोर थे, वहां हाईवे आदि का निर्माण भी एक बड़ी समस्या है। उत्तराखंड में ऐसे 11 हाथी कॉरिडोर हैं जिन पर अतिक्रमण कर दिया गया है। वर्ष 2017 की गणना के अनुसार उत्तराखंड में 1800 से अधिक हाथी मौजूद हैं। भौगोलिक रूप से उत्तराखंड का अधिकांश हिस्सा पर्वतीय है। मैदान के एक सीमित क्षेत्र में गजराज रहते हैं लेकिन यहां  आबादी का बढ़ता दबाव टकराव के रूप में सामने आ रहा है।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.