”काम नहीं तो वेतन नहीं” शासनादेश हुआ बेकार, हड़तालियों को दे दी पगार !

0
495
  • कर्मचारियों के दबाव में आयी सरकार !
देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून : उत्तराखंड में कर्मचारियों के खिलाफ राज्य सरकार सख्त कार्रवाई को लेकर भले ही लाख दावे करें लेकिन हकीकत यह है कि कर्मचारियों के दबाव में सरकार ”काम नहीं तो वेतन नहीं ” नियम कानून बनाकर भी उसका पालन नहीं करवा पा रही है । 
सूबे की सरकार ने कर्मचारियों की हड़ताल पर लगाम लगाने के लिए साल 2013 के काम नहीं तो वेतन नहीं के शासनादेश को कड़ाई से पालन कराने का निर्णय तो लिया लेकिन कर्मचारियों का दबाव  सरकार के  इस फैसले पर भारी पड़ गया।
गौरतलब हो  कि त्रिवेंद्र सरकार ने 2013 के शासनादेश को 2018 में फिर जारी कर कर्मचारियों की हड़ताल और कार्यबहिष्कार रोकने का दावा किया लेकिन आदेश जारी होते ही संयुक्त कार्मिक आउट सर्च और शिक्षक संगठन ने कार्यबहिष्कार कर दिया।
खास बात ये है कि 3 दिन के इस बहिष्कार को लेकर शासनादेश के अनुसार वेतन काटे जाने का प्रयास हुआ तो कर्मियों के दबाव ने सरकार को बैकफुट पर आना पड़ा और शासन ने फिर कर्मियों का वेतन जारी करने के आदेश जारी कर दिये। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने बताया कि सरकार केवल शासनादेश जारी करती है लेकिन इसका पालन नहीं करती । 
उधर सरकार कार्यबहिष्कार के बाद भी वेतन जारी करने के फैसले का समर्थन कर रही है। कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत की माने तो कई बार मानवीय पहलुओं को देखकर निर्णय लिया जाता है और इसलिए शासनादेश किया गया है।
Previous articleअयोध्याः सरकार जरा दिमाग लगाए
Next articleएनआईटी श्रीनगर गढ़वाल मामले में हाईकोर्ट ने सरकारों से मांगा जवाब
तीन दशक तक विभिन्न संस्थानों में पत्रकारिता के बाद मई, 2012 में ''देवभूमि मीडिया'' के अस्तित्व में आने की मुख्य वजह पत्रकारिता को बचाए रखना है .जो पाठक पत्रकारिता बचाए रखना चाहते हैं, सच तक पहुंचना चाहते हैं, चाहते हैं कि खबर को साफगोई से पेश किया जाए न कि किसी के फायदे को देखकर तो वे इसके लिए सामने आएं और ऐसे संस्थानों को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘ देवभूमि मीडिया’ जनहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। खबरों के विश्लेषण और उन पर टिप्पणी देने के अलावा हमारा उद्देश्य रिपोर्टिंग के पारंपरिक स्वरूप को बचाए रखने का भी है। जैसे-जैसे हमारे संसाधन बढ़ेंगे, हम ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने की कोशिश करेंगे। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव अवश्य दें। आप अपना सुझाव हमें हमारे ई-मेल editor@devbhoomimedia.com अथवा हमारे WhatsApp नंबर 7579007807 पर भेज सकते हैं। हम आपके आभारी रहेंगे