गैरसैंण में 25 हज़ार करोड़ की योजनाओं का कांग्रेस स्वागत करती तो उसका क्या नुकसान होता : भाजपा

0
240

कांग्रेस की ट्रैक्टर रैली किसान विरोधी और ग़ैरसैंण विकास महायोजना की आलोचना, कांग्रेस की विकास विरोधी मानसिकता का प्रतीक:भाजपा

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून । भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस द्वारा डोईवाला में निकाली गई ट्रैक्टर रैली को किसान विरोधी और गैरसैंण के लिए मुख्यमंत्री द्वारा घोषित विकास महायोजना को चुनावी घोषणा बताए जाने पर कांग्रेस को विकास विरोधी बताया ।
मंगलवार को एक बयान में भाजपा ने कहा कि डोईवाला में कांग्रेस द्वारा निकाली गई ट्रैक्टर रैली कांग्रेस की किसान विरोधी सोच का प्रमाण है। कांग्रेस नहीं चाहती कि किसान बिचौलियों के शोषण व चंगुल से छूटे ।क्योंकि स्वयं कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता बिचौलियों का काम करते हैं और किसानों का शोषण करने से पीछे नहीं हटते ।यही कारण है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा किसानों के हित में बनाए गए 3 अधिनियम जो किसानों को बिचौलियों से आजादी दिलाने वाले ,अपनी उपज अपनी इच्छा के अनुसार कहीं पर भी बेचने और इच्छा के अनुसार दाम मांगने की आजादी देते हैं , कांग्रेस को पसंद नहीं हैं। भाजपा किसानों की आय को दोगुना करने के लिए कृत संकल्प है और ये अधिनियम उसी दिशा में एक बड़ा कदम भी हैं ।लेकिन कांग्रेस किसानों को भ्रमित करने की कोशिश में है।
भाजपा ने कहा कि न तो मंडियां समाप्त हो रही हैं और न ही न्यूनतम समर्थन मूल्य को हटाया गया है ।लेकिन कांग्रेस किसानों को गुमराह करने की कोशिश में लगी है ।किंतु अब उसकी पोल खुल चुकी है और देश में बिचौलियों को छोड़कर सभी किसान इन अधिनियमों की प्रशंसा कर रहे हैं और इनका लाभ भी प्राप्त कर रहे हैं ।किंतु कांग्रेस अभी भी अपने हरकतों से बाज नहीं आ रही ।डोईवाला में निकाली गई रैली इसी का एक उदाहरण है ।
भाजपा ने कांग्रेस नेताओं द्वारा मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा गैरसैंण के विकास के लिए घोषित की गई 25 हजार करोड़ रुपए की महायोजना की आलोचना करने पर उन्हें विकास विरोधी बताया और कहा कि उचित तो यह होता कांग्रेस इस घोषणा का स्वागत करती और इस कार्य में सहयोग देने की बात करती ।लेकिन कांग्रेस ने इसे चुनावी घोषणा बता कर अपनी पोल खुद ही खोल दी है । क्योंकि यह कांग्रेस का चरित्र है कि वह चुनाव के समय बड़ी-बड़ी बातें करती है और व्यवहार में उन्हें लागू नहीं करती ।लेकिन भाजपा जो कहती है वह करती है।कांग्रेस नेताओं को समझ लेना चाहिए कि जनता अब उनके भ्रम में आने वाली नहीं है और उत्तराखंड में वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हालत पिछले विधानसभा चुनाव से भी अधिक खराब होने वाली है