कोरोना के ख़तरे को देखते हुए नहीं होगा ऐतिहासिक गौचर मेला इस बार

0
321

पूर्व में घोषित 18 नवंबर को गौचर मेला अवकाश में संशोधन

इसके बदले अब 12 नवंबर, धनतेरस को पूरे जिले में हुआ स्थानीय अवकाश घोषित

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
गोपेश्वर (चमोली) : चमोली जिले की जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने कहा है कि वर्तमान परिदृश्यों को दृष्टिगत रखते हुए और कोरोना के खतरे को देखते हुए स्थानीय स्तर पर प्रति वर्ष आयोजित होने वाले पौराणिक सांस्कृतिक एवं क्षेत्रीय पृष्ठभूमि को उजागर करने वाले गौचर मेला का आयोजन किया जाना संभव नहीं हो पा रहा है।
उन्होंने गौचर मेले के लिए जारी स्थानीय अवकाशों की सूची में गौचर मेला हेतु 18 नवंबर को स्थानीय घोषित अवकाश की जगह 12 नवंबर,2020 (बृहस्पतिवार) को धनतेरस पर पूरे जिले में स्थानीय अवकाश घोषित कर दिया है।
उनके अनुसार वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा समय समय पर जारी आवश्यक दिशा निर्देशों एवं एडवाइजरी के तहत सार्वजनिक स्थलों पर एहतियात बरतने तथा सामाजिक दूरी बनाए रखे जाने की अपेक्षा की गई है। लिहाज़ा इस वर्ष ऐतिहासिक मिला करना संभव नहीं है। 
जिलाधिकारी ने पूर्व में घोषित 18 नवंबर को गौचर मेला अवकाश में संशोधन करते हुए इसके बदले अब 12 नवंबर, धनतेरस को पूरे जिले में स्थानीय अवकाश घोषित किया है।