रंगदारी मांगने के मामले में पुलिस ने किये दो आरोपी गिरफ्तार 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

हरिद्वार । कारोबारी से दस लाख रूपए, की रंगदारी मांगने के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से एक बिजनौर निवासी अधिवक्ता बताया जा रहा है। वहीं दूसरा युवक सिडकुल की एक कंपनी में काम करता था और लेकिन बिमारी के कारण उसे नौकरी से निकाल दिया गया था। दोनों ने बताया कि पैसे की किल्लत के कारण उन्होंने रंगदारी मांगने का प्लान किया। लेकिन पुलिस के जाल में फंस गए।

आरोपियों की शिनाख्त  अभिषेक पुत्र हरपाल सिंह निवासी सिविल लाइन कोतवाली के पास बिजनौर यूपी और अक्षय शर्मा पुत्र देवी चंद्र निवासी नागल सहारनपुर के तौर पर हुई है। दोनों ने चार दिन पहले ज्वालापुर थाना क्षेत्र के सुभाष नगर में मेडिकल स्टोर चलाने वाले जगदीश पंवार नाम के कारोबारी से दस लाख रूपए की रंगदारी मांगी थी। इसके लिए चाइनीज फोन का प्रयोग किया गया था।

पुलिस ने दोनों को सर्विलांस के आधार पर पकड लिया। एसएसपी जनमेजय खंडूरी ने बताया कि दोनों के कब्जे से मोबाइल और मोटरसाइकिल बरामद की गई है। दोनों पहले से ही जगदीश पंवार को जानते थे। वहीं अभिषेक ने बताया कि वो रजिस्टर्ड वकील की है और बिजनौर कोर्ट में प्रेक्टिस करता था।

हालांकि पुलिस इस बात की पुष्टि करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि उनके पास पैसों की किल्लत थी और अक्षय के पास अपनी बीमारी का इलाज कराने के भी पैसे नहीं थे। इसलिए उन्होंने जगदीश पंवार नाम के कारोबारी से रंगदारी मांगने का प्लान बनाया। जगदीश पंवार ने खुलासे के दौरान पहुंचकर एसएसपी व उनकी पूरी टीम को शुभकामनाएं दी और बुके देकर सम्मानित भी किया। इस दौरान जीतू चैधरी ने रंगदारी के आरोपियों को गिरफ्तार करने पर ज्वालापुर पुलिस टीम की सराहना की।

द्वारिका विहार लूट की घटना में शामिल आरोपी दबोचे

हरिद्वार बीती 3 जुलाई को कनखल थाना क्षेत्र की द्वारिका विहार कालोनी में घर में घुसकर महिला के जेवरात लूटने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से 1 तमंचा, 1 जिंदा कारतूस, 1 चाकू व जेवरात भी पुलिस ने बरामद किए हैं। आरोपियों में शामिल गौतम राठी व रणदीप ने अन्य साथियों के साथ द्वारिका विहार में लूट से पहले रानीपुर झाल के पास कार लूटने की घटना को भी अंजाम दिया था। गिरफ्तार किए सभी आरोपी पढ़े लिखें हैं तथा ऐशो आराम व शौक पूरे करने के लिए लूटपाट की घटनाओं को अंजाम देते हैं। 

थाना कनखल में पत्रकारों को जानकारी देते हुए एसएसपी जनमेजय खण्डूरी ने बताया कि 3 जुलाई को द्वारिका विहार में हुई लूट की घटना के खुलासे तथा घटना में शामिल बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए गठित पुलिस टीम द्वारा जमालपुर के पास गाड़ोवाली तिराहे पर वाहनों की चेकिंग के दौरान लकसर की तरफ से आ रही एक कार को रूकने का इशारा किया तो कार चालक ने कार मोड़कर वापस भागने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस टीम ने कार को वहीं पकड़ लिया। कार में सवार चार लोगों की तलाशी ली गयी तो उनके पास से एक देशी तमंचा मय कारतूस व कुछ जेवरात बरामद हुए।

पूछताछ में उन्होंने अपने नाम गौतम राठी उर्फ आजाद निवासी ग्राम सलेमपुर थाना पुरकाजी मुजफ्फरनगर यूपी, सान्तनु पंवार उर्फ सानू निवासी ग्राम टिकरोला थाना नानोता जिला सहारनपुर यूपी, गगन चैधरी निवासी खेड़ा जट थाना मंगलौर हरिद्वार तथा रणदीप उर्फ भिण्डर निवासी खेड़ा जट मंगलौर हरिद्वार बताए। सख्ती से पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि द्वारिका विहार में घर में घुसकर महिला के साथ लूट की घटना को उन्होंने ही अंजाम दिया था। चारों आरोपी पढ़े लिखे हैं। महंगे शौक पूरे करने तथा ऐशो आराम की खातिर लूटपाट जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं।

Advertisements
Previous articleA policy document for the medium term : Arun Jaitley
Next articleसंगठन की मूल शुरुआत सदस्यता से ही होती है : अमित शाह
डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : देवभूमि मीडिया.कॉम हर पक्ष के विचारों और नज़रिए को अपने यहां समाहित करने के लिए प्रतिबद्ध है। यह जरूरी नहीं है कि हम यहां प्रकाशित सभी विचारों से सहमत हों। लेकिन हम सबकी अभिव्यक्ति की आज़ादी के अधिकार का समर्थन करते हैं। ऐसे स्वतंत्र लेखक,ब्लॉगर और स्तंभकार जो देवभूमि मीडिया.कॉम के कर्मचारी नहीं हैं, उनके लेख, सूचनाएं या उनके द्वारा व्यक्त किया गया विचार उनका निजी है, यह देवभूमि मीडिया.कॉम का नज़रिया नहीं है और नहीं कहा जा सकता है। ऐसी किसी चीज की जवाबदेही या उत्तरदायित्व देवभूमि मीडिया.कॉम की नहीं होगी । धन्यवाद !