हरदा भविष्य की राह दिखा गये बजट सत्र के बहाने  

0
335

गैरसैण । गैरसैण को राजधनी बनाने के मुद्दे पर खामोश हरीश रावत ने सत्रा के दौरान वर्ष 2017-18 को बजट सत्रा गैरसैण में भी आयोजित कराने का प्रस्ताव लाकर भविष्य की राह खोल दी है। उनके इस प्रस्ताव से आने वाली सरकार वीर चन्द सिंह गढ़वाली परिसर में ही बजट सत्रा आयोजित कराने पर बाध्य होगी।

सत्र के आखरी दिन नेता सदन हरीश रावत ने बड़े भावुकता भरे अंदाज में कहा कि इस ऐतिहासिक संकल्प को पास कराने के समय अगर विपक्ष भी मौजूद होता तो बेहतर होता। उन्होंने गैरसैण के मुद्दे पर करीब 40 मिनट तक अपना भाषण दिया। कहा कि चमत्कार गाथाओं में हो सकते हैं। वास्तविक युग में चमत्कार नहीं होते। गैरसैण को विकसित करने के लिए गैरसैण विकास परिषद का गठन किया गया था अब गैरसैण सड़क मार्ग अवस्थापना निगम स्थिापित किया जा रहा है।

भराडीसैण को एक आर्दश व सुन्दर नगर के रूप में विकसित किया जायेगा। इसलिए जरूरी है कि यह सदन दो संकल्प पास करे एक तो यह कि आगामी 2017-18 का बजट सत्रा भराड़ीसैण में आयोजित किया जाय, दूसरों भराड़ीसैण में अवस्थापना सुविधओं के विकास को केन्द्र 1000 करोड़ रुपये वित्तीय सहायता दे। जिस प्रकार आन्ध्र  प्रदेश को राजधनी विकसित करने के लिए ध्न उपलब्ध् कराया गया है। ऐसे की उत्तराखण्ड का उपलब्ध् कराया जाये।

इसके अलावा सहकारिता मंत्राी यशपाल आर्य ने नोट बंदी के बाद सहकारी बैंकों व काॅओरेटिव बैंकों के संबंध् में संकल्प रखा। उन्होंने संकल्प में कहा कि सहकारी बैंक, मिनी बैंक, काॅओरेटिव बैंक का नये पफरमान से अस्तित्व खतरे में हैं। आरबीआई ने 500 व 1000 के नोट सहकारी बैंकों में जमा ने करने का निर्णय लिया है। जिस कारण )ण लेने वाले किसानों, बीज व खाद खरीदने वाले कृषकों को भी परेशानी हो रही है। इस संबंध् में कोई कारगर कदम उठाया जाय।