माता श्री मंगला जी के जन्मदिवस पर उत्तराखंड ही नहीं बल्कि देश के 28 राज्यों में ख़ुशी का माहौल

0
367

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने की उनकी लम्बी आयु की कामना

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून : हंस फाउंडेशन की संरक्षक बहुआयामी प्रतिभा की धनी, उत्तराखंड ही नहीं बल्कि देश के विभिन्न प्रान्तों में सामाजिक क्षेत्र में कार्य करने वाली माता श्री मंगला जी के जन्म दिवस पर ख़ुशी का माहौल है।  वहीं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने सन्देश में कहा कि हंस फाउंडेशन के माध्यम से शिक्षा, स्वास्थ्य और संस्कृति के क्षेत्र में अनुकरणीय कार्य करने वाली, गरीबों की सेवा में निस्वार्थ भाव से समर्पित परम श्रद्धेय माताश्री मंगला जी के जन्मदिवस पर उनके सुदीर्घ और स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं। कोरोना महामारी से लड़ने में भी हंस फाउंडेशन फ्रंटलाइन वाॅरियर्स की भूमिका अतुलनीय है। 
गौरतलब हो कि हंस महाराज की प्रेरणा से धर्मार्थ कार्यों को बढ़ावा देने के लिए माता मंगला जी और भोले महाराज ने वर्ष 2009 में हंस फाउंडेशन नाम से सार्वजनिक धर्मार्थ ट्रस्ट की स्थापना की। तब से लेकर वर्तमान तक पूरे भारतभर के 28 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 400 से ज्यादा संस्थाओं को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगभग 10 मिलियन की भारी भरकम धनराशि से निर्धन लोगों को लाभान्वित कर चुके हैं। फाउंडेशन की स्थापना स्वास्थ्य, शिक्षा, विकलांगता, पलायन, जल संरक्षण और आजीविका के क्षेत्रों में विकास कार्यक्रमों के लिए धन सहायता प्रदान के उद्धेश्यों को ध्यान में रखकर की गई है।
कहा तो यहां तक भी जाता है कि जहां सरकार विवश नज़र आती है वहां से आगे हंस फाउंडेशन का काम शुरू होता है। उत्तराखंड के सरकारी अस्पतालों को जितना कुछ हंस फाउंडेशन ने दिया है वह सरकार भी नहीं कर सकती।  उत्तराखंड के चारों धामों में स्वास्थ सुविधाओं सहित बद्रीनाथ और केदारनाथ तक जैसे दुर्गम इलाकों में आईसीयू ,वेंटिलेटर और ऑपरेशन थियेटर तक फाउंडेशन द्वारा स्थापित किया गया है जो तीर्थ यात्रियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं। बद्रीनाथ में तो अत्याधुनिक स्वस्थ्य सुविधाओं से सुसज्जित हॉस्पिटल तक फाउंडेशन से बनाया है।  
देवभूमि मीडिया परिवार पूज्यनीय माता श्री मंगला जी को उनके जन्मदिवस पर शुभकामनायें प्रेषित करते हुए भगवान बद्रीविशाल से प्रार्थना करता है कि उन्हें लम्बी उम्र दे ताकि उनका आशीर्वाद उत्तराखंड ही नहीं बल्कि देश के लोगों को मिलता रहे।