हंस फाउंडेशन एक बार फिर आया कोरोना वायरस में फंसे जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे

हंस फाउंडेशन ने शुरू किया ऑपरेशन ''नमस्ते'' अभियान

0
1256

आप सब इस संकट के समय जहाँ है वहाँ रहकर अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें : माताश्री मंगला जी

”हंस फाउंडेशन” द्वारा कोरोना वायरस में फंसे जरूरतमंद लोगों तक पहुंचायी जा रही है खाद्य सामग्री

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : कोरोना वायरस के चलते देश में  लोगों जहां के तहां फंस गए है। लोगों को खाना और अन्य जरुरी सामान पहुंचाने के लिए सरकार और जिला प्रशासन प्रयासरत है। वहीं, ऐसे समय में समाज सेवा और समाज की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले द हंस फाउंडेशन ने माता मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी के आशीर्वाद से कोरोना वायरस के चलते फंसे देश के नागरिकों को सहयोग के लिए ऑपरेशन नमस्ते  अभियान की शुरुआत की गयी है। इस अभियान के माध्यम से देश में  गरीब और निर्धन लोगों को उनके घरों तक सोशल नेटवर्किंग द्वारा खाद्य आपूर्ति की जा रही है। 

आमलोग भी किसी न किसी रुप में फंसे लोगों की मदद कर रहे हैं। वहीं हंस फाउंडेशन की प्रेरणास्रोत समाजसेवी माताश्री मंगला जी ने अपने संदेश में कहा है कि हम सबसे पहले तो आप सभी से निवेदन करते है आप सब इस संकट के समय जहाँ है वहाँ रहकर अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें। साथ ही लॉकडाउन के नियमों का पालन करें और अपने घर से बाहर न निकलें। 

माताश्री मंगला जी ने अपने संदेश में कहा कि माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के निवेदन को मानिए जिसमें प्रधानमंत्री जी ने कहा है कि लॉकडाउन के दौरान आप सोशल डिस्टेंसिंग जरूर बढ़ाएं लेकिन इस दौरान आप इमोशनल डिस्टेंस घटाएं,इसका आप सभी पालन करें। 

इस संकट के समय में हंस फाउंडेशन देश के साथ खड़ा हैं और हम डिजिटल इंडियाके माध्यम से एवं सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करते हुए  देश में  जरूरतमंद लोगों तक खाद्य सामग्री पहुंचाने का भरसक प्रयास  कर रहे है।

मुंबई कौथिग फाउंडेशन के माध्यम से हम मुंबई में होटलों में काम करने वाले उत्तराखंड के लोगों और परिवारों को मदद पहुँचा रहे है। साथ ही उत्तर प्रदेश एवं दिल्ली के विभिन्न स्थानो में जरूरतमंद लोगों को सहयोग प्रदान किया जा रहा है। 

आपको बता दें कि हंस फाउंडेशन के तत्वावधान में चलाए जा रहे आपरेशन नमस्ते के जरिए उन लोगों तक डिजिटल इंडिया के माध्यम से खाद्य आपूर्ति की जा रही हैं। जो आज के समय में बहुत जरूरतमंद है। 

इसी के साथ उत्तराखंड में दुर्गम क्षेत्रों में बसे गाँव तक हंस फाउंडेशन की टीमों द्वारा डिजिटल इंडिया के तहत निरंतर मदद पहुँचाई जा रही है। 

इसी के साथ हंस फाउंडेशन कोरोना वायरस से निपटने के लिए उत्तराखंड में स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका रहा है। उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में सतपुली में स्थित ‘हंस फाउंडेशन जरनल अस्पताल’ के साथ-साथ हंस फाउंडेशन द्वारा वित्तपोषित,उत्तराखंड के छह अस्पतालों में कोरोना वायरस से लड़ने की व्यवस्था की जा रही है।

Previous articleनफरतकुमारों का नजला !
Next articleलॉकडाउन और दिल्ली …
तीन दशक तक विभिन्न संस्थानों में पत्रकारिता के बाद मई, 2012 में ''देवभूमि मीडिया'' के अस्तित्व में आने की मुख्य वजह पत्रकारिता को बचाए रखना है .जो पाठक पत्रकारिता बचाए रखना चाहते हैं, सच तक पहुंचना चाहते हैं, चाहते हैं कि खबर को साफगोई से पेश किया जाए न कि किसी के फायदे को देखकर तो वे इसके लिए सामने आएं और ऐसे संस्थानों को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘ देवभूमि मीडिया’ जनहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। खबरों के विश्लेषण और उन पर टिप्पणी देने के अलावा हमारा उद्देश्य रिपोर्टिंग के पारंपरिक स्वरूप को बचाए रखने का भी है। जैसे-जैसे हमारे संसाधन बढ़ेंगे, हम ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने की कोशिश करेंगे। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव अवश्य दें। आप अपना सुझाव हमें हमारे ई-मेल editor@devbhoomimedia.com अथवा हमारे WhatsApp नंबर 7579007807 पर भेज सकते हैं। हम आपके आभारी रहेंगे