हंस फाउंडेशन बेसहारा परिवारों का बना सहारा,कंडकड़ाती ठंड में जरूरतमंदों को बांटे कंबल और स्वेटर

0
532

हंस फाउंडेशन द्वारा नीलकंठ और यमकेश्वर में आयोजित किया गया कंबल व स्वेटर वितरण शिविर

यमकेश्वर की विधायक ऋतु खंडूरी ने हंस फाउंडेशन का जताया आभार

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून : उत्तराखंड में पिछले कई दिनों से लगातार हो रही बारिश और बर्फबारी से ग्रामीण क्षेत्रों में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिसके चलते लोगों का अपने घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। इस समय पूरा उत्तराखंड शीतलहर की चपेट में है। पहाड़ी क्षेत्रों में निरंतर हो रही बारिश और बर्फबारी ने लोगों के जन-जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है।

ऐसे में जिन लोगों को सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वह है बेसराहा और गरीब लोगों,जिनके पास रहने के लिए न तो ठीक से छत हैं और ना ही इस कड़कड़ाती ठंड से बचने के लिए कोई दूसरा साधन। ऐसे समय में हंस फाउंडेशन इन लोगों के लिए वरदान बनकर आया है। जो माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज के आशीर्वाद से इन गरीब-बेसहारा लोगों को कंबल और स्वेटर प्रदान कर रहा है। ताकि इस कड़कड़ाती ठंड से इन लोगों को बचाया जा सके।

आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से उत्तराखंड के अलग-अलग क्षेत्रों में हंस फाउंडेशन के तत्ववाधान में माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी के आशीर्वाद से पौड़ी,डोइवाला,नीलकंठ,देहरादून,सुरकंडा,यमकेश्वर, कांवली, द्रोणपूरी, गांधी ग्राम, प्रेमनगर और उत्तराखंड के तमाम पहाड़ी क्षेत्रों में बेघर और गरीब लोगों को कड़कड़ाती ठंड से बचने के लिए कंबल और स्वेटर वितरीत किए जा रहे है।

नीलकंठ और यमकेश्वर में हंस फाउंडेशन द्वारा आयोजित कंबल वितरण शिविर में पहुंची यमकेश्वर की विधायक ऋतु खंडूरी ने कहा कि यह हम सब के लिए सौभाग्य की बात हैं कि माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी हमेशा देश के जरूरतमंद और गरीब लोगों के साथ खड़े रहते है। आज इसी की यह एक महत्वपूर्ण पहल हैं कि माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी के आशीर्वाद से इस कंपकपाने वाली ठंड से बचने के लिए गरीब और बेसहारा लोगों को कंबल और स्वेटर भेंट किए जा रहे है। इसके लिए हम हंस फाउंडेशन का कोटि-कोटि आभार प्रकट करते है।

इस अवसर कंबल और स्वेटर प्राप्त करने वाले हजारों बेसहारा और गरीब लोगों ने माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी का कोटि-कोटि आभार व्यक्त किया है।