राज्यपाल ने कहा राज्य के समक्ष स्वास्थ्य एवं चिकित्सा के क्षेत्र में कई चुनौतियां

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

हरिद्वार । उत्तराखण्ड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने मंगलवार को श्यामपुर नजीबाबाद रोड मे स्थापित 300 बेड वाले ध्रुव चैरिटेबल हाॅस्पिटल का उद्घाटन किया। इस अवसर पर राज्यपाल ने  अस्पताल के संस्थापक स्वामी बालक दास जी महाराज को विशेष बधाई दी जिनके प्रयास से इस मानव कल्याण व सेवार्थ कार्य का आरम्भ हुआ। स्वामी बालक दास जी महाराज ने इस अस्पताल के माध्यम से अपने सद्गुरू स्वामी धुव्रदास जी महाराज का नाम सदैव के लिए अमर कर दिया है। 

गौरतलब हो कि इस क्षेत्र के 20 किलोमीटर की दूरी तक कोई भी अस्पताल उपलब्ध नही है। इस अस्पताल के खुलने से स्थानीय जनता व यात्रियों को आसानी से स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध होंगी। मुझे विश्वास हे कि स्वामी बालक दास जी महाराज ने यह जो स्वास्थ्य सुरक्षा कवच सभी को प्रदान किया है उससे यहां रहने वाले निर्धन और जरूरतमंद रोगियों को लाभ होगा।

राज्यपाल ने कहा कि प्राचीन काल से ही समय समय पर हमारे साधु सन्तों ने समाज को मार्गदर्शन दिया तथा जब आवश्यकता  पड़ी तो समाज के लिए बडे से बड़ा त्याग भी किया। साधु सन्तों ने सांसारिक जीवन त्याग कर भी समाज को दूसरों की सेवा का सन्देश दिया है। आज भी धार्मिक संस्थाओं द्वारा सामाजिक कल्याण व मानवीय कार्यों में योगदान देना धर्म और मानवता का सम्बन्ध मजबूत करता है। जरूरतमंद रोगियों को सरलता से चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाना वास्तव में मानवता व पुण्य का कार्य है।  हरिद्वार एक तीर्थ नगरी व पर्यटन जिला है। यहाँ स्थानीय आबादी के साथ ही तीर्थ यात्रियों,  पर्यटकों का भी आवागमन रहता है।

राज्यपाल ने कहा श्री धुव्र चैरिटेबल ट्रस्ट हाॅस्पिटल के खुलने से यहाँ के लोगो तीर्थं यात्रियों, कावंड़ियों, पर्यटकों को बड़ा लाभ होगा। आपातकाल के समय लोगों की सरकारी व निजी अस्पतालों पर निर्भरता कम होगी। हमें यह नही भूलना चाहिए कि उत्तराखण्ड अपेक्षाकृत एक नया राज्य है तथा राज्य के समक्ष स्वास्थ्य एवं चिकित्सा के क्षेत्र में कई चुनौतियां हैं। राज्य की कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के कारण सभी लोगों तक सरलता से स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाना एक चुनौती है। सरकार द्वारा राज्य के स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार के लिए निरन्तर प्रयास किये जा रहे हैं। ऐसे में धार्मिक एवं सामाजिक संस्थाओं का चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए आगे आना निश्चित ही सराहनीय प्रयास है।

उन्होंने कहा जन आरोग्य आयुष्मान भारत योजना स्वास्थ्य की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण योजना है। हमें प्रयास करना होगा कि अधिक से अधिक लोगों को इस योजना का लाभ पहुंचे ताकि हम प्रधानमंत्री जी के स्वस्थ्य व समृद्ध भारत के सपने को जल्द पूरा कर सके। मेरा डाॅक्टरों नर्सिंग व पैरामेडिकल कार्मिकों से विशेष अनुरोध है कि आप रोगियों की सेवा के लिये अपना जीवन समर्पित करते हैं। चिकित्सा सेवाए  मात्र व्यवसाय नही है बल्कि मानव सेवा से जुड़ा पुण्य कार्य भी है। रोगियों को अच्छे उपचार के साथ ही सांत्वनाए स्नेह व सहानुभूति भी जरूर दें। अपने मरीजों से हमेशा मित्रवत् व्यवहार करें। एक आत्मीय व स्नेहशील डाॅक्टर निश्चित रूप से अधिक सम्मानित व सफल माना जाता है। आशा करती हूँ कि चिकित्सक के रूप में आप मानवता, समाज और राष्ट्र की सेवा को सदैव सर्वोच्च प्राथमिकता देंगे। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री सतपाल महाराज ने कहा कि नर सेेवा ही नारायण सेवा है गरीब की सेवा करना ही सच्ची सेवा होगी। उन्होने कहा कि इस क्षत्र में अस्पताल खोलना एक प्रशंनीय सराहनीय कार्य है। कार्यक्रम के पश्चात राज्यपाल ने चंडी देवी के दर्शन भी किए।

Advertisements