21 वीं सदी के न्यू इंडिया में सरकार छात्रों को नवीनतम विकास के लिए तकनीकी शिक्षा पर दे रही है जोर : डॉ. निशंक

0
423

 केंद्रीय विद्यालय संगठन और डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय विद्यालय, राष्ट्रपति भवन के लिए एक गौरवपूर्ण और उपलब्धि से भरपूर दिवस रहा 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

नई दिल्ली : राष्ट्रपति भवन के भीतर डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय विद्यालय में स्थापित डिजिटल भाषा प्रयोगशाला का उद्घाटन भारत गणराज्य की माननीय प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविंद के कर कमलों से गुरुवार को संपन्न हुआ। इस ऐतिहासिक अवसर पर डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, माननीय शिक्षा मंत्री, भारत सरकार की गरिमामयी उपस्थिति से कार्यक्रम और भी गौरवान्वित हुआ ।  उद्घाटन के पश्चात माननीय प्रथम महिला ने बच्चों से डिजिटल लैंग्वेज लैब के बारे में बातचीत की और अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की।

उनके विदा होने के पश्चात माननीय शिक्षा मंत्री ने उपस्थित सभा को संबोधित किया और केंद्रीय विद्यालय संगठन और डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय विद्यालय राष्ट्रपति परिसर के भ्रमण के पश्चात संबोधित करते हुए कहा, यह विद्यालय देश के प्रतिष्ठित परिसर में स्थित है। उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्रालय, राष्ट्रपति भवन और केंद्रीय विद्यालय संगठन सभी मिलकर इस विद्यालय को देश का सर्वाधिक प्रतिष्ठित विद्यालय बनाने के लिए हर संभव प्रयास करें।

उन्होंने विद्यार्थियों से प्रश्न पूछा और उत्तर देने पर त्वरित उन्हें पुरस्कार देने की भी घोषणा कर विद्यार्थियों का हौसला अफजाई भी किया। डॉ. राजेंद्र प्रसाद स्कूल केंद्रीय विद्यालय के छात्रों के साथ बातचीत में श्री पोखरियाल ने कहा कि 21 वीं सदी के न्यू इंडिया में, सरकार छात्रों को नवीनतम विकास के लिए तकनीकी शिक्षा पर जोर दे रही है, जिससे वैश्विक मंच पर वे अपनी पहचान बना सकें।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि डिजिटल लैब का शुभारंभ आज नई शिक्षा नीति 2020 में उल्लिखित मजबूत शिक्षा प्रणाली की स्थापना के उद्देश्यों को प्राप्त करने की दिशा में एक कदम है।

शिक्षा मंत्री डॉ. निशंक के प्रस्थान के पश्चात केंद्रीय विद्यालय संगठन की माननीय आयुक्त श्रीमती निधि पांडे विद्यालय के सभी सदस्यों को संबोधित करते हुए विद्यालय की उपलब्धि पर बधाई देते हुए विद्यालय के कार्यक्रम की भूरि भूरि प्रशंसा की और अपील की कि आइए हम सब मिलकर इस विद्यालय को देश का प्रतिष्ठित विद्यालय बनाने के लिए प्रयास करें।अंत में, विद्यालय की प्राचार्या डॉ चारू शर्मा के धन्यवाद ज्ञापन के साथ सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।