26 अप्रैल दोपहर 12 बजकर 35 मिनट पर खोले जाएंगे गंगोत्री धाम के कपाट

कोरोना के चलते डोली यात्रा में केवल मंदिर के पुजारी व समिति के सदस्य होंगे शामिल

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

उत्तरकाशी : गंगोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीय के अवसर पर आगामी 26 अप्रैल को श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे। जबकि यमुनोत्री धाम के कपाट भी इसी दिन अक्षय तृतीया पर खोले जाएंगे। बुधवार को नवरात्रि के अवसर पर श्री पांच मंदिर समिति गंगोत्री धाम द्वारा विधिविधान के साथ कपाटोद्घाटन की तिथि व समय निकाला गया। वहीं कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप पर चिंता जाहिर करते हुए मंदिर समिति के पदाधिकारियों ने 14 अप्रैल के बाद कपाटोद्घाटन समारोह की रणनीति बनाने का निर्णय लिया।

उन्होंने कहा कि अगर लॉकडाउन के बाद भी हालात नहीं सुधरे तो केवल मंदिर के पुजारी व समिति के सदस्य ही डोली यात्रा में शामिल होंगे। हालांकि इस संबंध में प्रशासन से चर्चा करने के बाद ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा। वहीं यमुनोत्री धाम के कपाटोद्घाटन की तिथि व समय की आधिकारिक घोषणा आगामी 31 मार्च को यमुना जयंती के अवसर पर की जाएगी।

गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल के अनुसार 25 अप्रैल को दोपहर साढ़े बारह बजे शीतकालीन पड़ाव मुखबा गांव से मां गंगा की डोली गंगोत्री धाम के लिए रवाना होगी। यात्रा के पहले दिन मां गंगा की डोली भैरव घाटी स्थित भैरव मंदिर में ही रात्रि विश्राम करेगी। जिसके बाद अगले दिन 26 तारीख को डोली यात्रा गंगोत्री धाम के लिए प्रस्थान करेगी।जहां पहुंचने के बाद विशेष पूजा अर्चना के साथ 12 बजकर 35 मिनट के शुभ मुहूर्त  पर मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे।