MP में अब दलित महिला से गैंगरेप, तीन दिन तक नहीं लिखी पुलिस ने FIR तो पीड़िता ने की खुदकुशी

0
376

32 वर्षीय महिला के साथ चार दिन पहले तीन लोगों ने कथित तौर पर किया था गैंगरेप 

गैंगरेप के बाद पुलिस ने कई दिनों तक मामला दर्ज नहीं किए जाने से परेशान होकर पीड़िता ने की खुदकुशी 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
भोपाल : उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड के बाद अब मध्य प्रदेश में भी दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले में चिचली थाना क्षेत्र के एक गांव में गैंगरेप का शिकार हुई एक विवाहित दलित महिला ने शुक्रवार को आत्महत्या कर ली। 32 वर्षीय इस महिला के साथ चार दिन पहले तीन लोगों ने कथित तौर पर गैंगरेप किया था। बताया जा रहा है कि गैंगरेप के बाद पुलिस ने कई दिनों तक मामला दर्ज नहीं किया, जिससे परेशान होकर पीड़िता ने खुदकुशी कर ली। पीड़िता के परिवार का आरोप है कि पुलिस ने पिछले तीन दिन में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया।
अब इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने, जिस चौकी प्रभारी ने इस मामले में प्राथमिकी नहीं लिखी, उसके खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर गिरफ्तार करने के निर्देश देने के साथ-साथ वहां के दो पुलिस अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश भी दिए हैं। बता दें कि शुक्रवार को पुलिस ने गैंगरेप के एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया, वहीं दो अन्य लोगों को पीड़िता को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।
गाडरवारा के अनुविभागीय पुलिस अधिकारी (एसडीओपी) सीताराम यादव ने शुक्रवार को बताया कि मामले में गोटटोरिया पुलिस चौकी के प्रभारी सहायक उपनिरीक्षक मिश्रीलाल कोडपे को लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित किया गया है। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही गैंगरेप के आरोप में तीन आरोपियों अरविंद चौधरी, परसू चौधरी और अनिल राय के खिलाफ भादंवि की धारा 376-डी के तहत मामला दर्ज कर एक आरोपी अरविंद को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि दो अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है।
सीताराम यादव ने बताया कि महिला सोमवार को मवेशियों के लिए घास काटने अपनी दो भतीजियों के साथ खेत में गई थी। वहां आरोपियों ने कथित तौर पर उसके साथ बलात्कार किया। हालांकि, एसडीओपी ने बताया कि पीड़िता की दो भतीजियों ने कहा कि आरोपियों ने उसे पकड़ा और छेड़ा था, लेकिन इस बात की पुष्टि नहीं की कि उसके साथ बलात्कार हुआ है। दोनों लड़कियों ने पुलिस को बताया कि जब उन्होंने घटना के वक्त चिल्लाना शुरू किया तो आरोपी वहां से भाग गए।
सीताराम यादव ने दावा किया कि महिला और उसके पति ने उसी दिन मौखिक तौर पर पुलिस से शिकायत की थी लेकिन शिकायत स्पष्ट नहीं थी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को पीड़िता जब गांव में पानी लेने गयी तो एक अन्य महिला लीलाबाई ने उसे कथित तौर पर ताना मारा। इसके बाद पीड़िता ने अपने घर जाकर फांसी लगा ली। पीड़िता के पति ने आरोप लगाया कि वे पिछले तीन दिन से मामला दर्ज कराने की कोशिश कर रहे थे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।
उन्होंने कहा, ‘सामूहिक दुष्कर्म के आरोपी अरविंद के पिता मोतीलाल और एक अन्य महिला लीलाबाई को हमने पीड़िता को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में भादंवि की धारा 306 के तहत गिरफ्तार किया है क्योंकि उन्होंने पीड़िता का अपमान किया।’ उन्होंने बताया कि पुलिस सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज कर मामले में आगे जांच कर रही है।