चेन्नई स्थित घर में रविवार रात करीब 9.30 बजे ली अंतिम सांस

नई दिल्ली, प्रेट्र : देश में चुनाव व्यवस्था में आमूलचूल बदलाव लाने और चुनाव आयोग की पहचान बनाने वाले 86 वर्षीय पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का रविवार की रात करीब 9.30 बजे चेन्नई स्थित घर में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। उनकी पिछले कुछ वर्षो सेतबीयत ठीक नहीं चल रही थी। शेषन को देश में चुनाव व्यवस्था में आमूलचूल बदलाव लाने के लिए जाना जाता है।

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। कुरैशी ने कहा, ‘दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि टीएन शेषन का कुछ देर पहले निधन हो गया है। वह एक सच्चे योद्धा थे और अपने बाद के चुनाव आयुक्तों के लिए प्रेरणास्नोत रहे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।’ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी ट्वीट कर शेषन के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया। उन्होंने लिखा, ‘यह जानकर दुख हुआ कि पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का चेन्नई में निधन हो गया है। वह पलक्कड़ के विक्टोरिया कॉलेज में मेरे पिता के सहपाठी थे।

’तिरुनेल्लई नारायण अय्यर शेषन यानी टीएन शेषन का जन्म 15 दिसंबर, 1932 को केरल के पलक्कड़ जिले में हुआ था। 1955 बैच के तमिलनाडु कैडर के आइएएस अधिकारी रहे शेषन 12 दिसंबर, 1990 से 11 दिसंबर 1996 तक देश के 10वें मुख्य चुनाव आयुक्त के पद पर रहे। सरकारी सेवाओं के लिए उन्हें 1996 में रेमन मैग्सेसे अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

मुख्य चुनाव आयुक्त का पद संभालने से पहले 1989 में वह देश के 18वें कैबिनेट सचिव के पद पर थे। लेकिन तत्कालीन पीएम वीपी सिंह से उनकी नहीं बनीं। सिंह ने उन्हें कैबिनेट सचिव के पद से हटाकर योजना आयोग में भेज दिया था। वीपी सिंह के बाद प्रधानमंत्री बने चंद्रशेखर ने उन्हें मुख्य चुनाव आयुक्त नियुक्त किया था। चंद्रशेखर तब कांग्रेस के समर्थन से सरकार चला रहे थे। कहा जाता है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कहने पर उन्होंने शेषन को मुख्य चुनाव आयुक्त बनाया था।

Advertisements