वनमंत्री के कार्यक्रम में भाजपाइयों का हंगामा
डीएफओ को सार्वजनिक रूप से करना पड़ा खेद प्रकट

रामनगर। पवलगढ़ कंजर्वेशन रिजर्व के शुभारंभ पर रामनगर पहुंचे वन मंत्री हरक सिंह रावत के कार्यक्रम में भाजपाईयों ने जमकर हंगामा बरपाया और वन मंत्री वापस जाओ के नारे लगाए। गुस्साए भाजपाइयों ने उद्घाटन पत्थर भी फेंक दिया।वन विभाग द्वारा स्थानीय विधायक को न बुलाए जाने से भाजपा कार्यकर्ता आक्रोशित थे। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने डीएफओ के खिलाफ जामकर नारेबाजी की। रामनगर वन प्रभाग में सीतावनी पर्यटन जोन पवलगड कंजर्वेशन के लोगो का आज लोकार्पण होना था। इस कार्यक्रम में वन मंत्री हरक सिंह रावत मुख्य अतिथि थे, लेकिन कार्यक्रम में रामनगर विधायक दीवान सिंह बिष्ट को नही बुलाया गया। कार्यकर्ताओं के गुस्से को देख वन मंत्री बगैर लोकार्पण के लिए चले गए।

वन विश्राम गृह में आयोजित पीसीआर के कार्यक्रम में रामनगर पहुंचे वन मंत्री हरक सिंह रावत के समारोह स्थल में आने से पहले भाजपा कार्यकर्ता भड़क गए। आक्रोशित कार्यकर्ताओं का आरोप था कि विधायक दीवान सिंह बिष्ट को न ही आयोजन की सूचना दी गई और न ही कार्ड में भी विधायक का नाम लिखा गया। वन मंत्री के आते ही भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने उनको घेरकर आरोपों की

बौछार कर दी और विधायक को न बुलाने को मंत्री की साजिश करार दिया। आक्रोशित युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने पीसीआर के अनावरण पट को भी तोड़ दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं और वन मंत्री के साथ आए लोगों के बीच तनातनी का माहौल रहा। बमुश्किल मामला शांत हुआ।

कार्यकर्ताओं के आक्रोश को शांत करते हुए वन मंत्री हरक सिंह रावत ने अधिकारियों को आगे से गलती न करने के निर्देश देते हुए कहा कि स्थानीय विधायक का पूरा सम्मान हो। वन मंत्री ने कहा कि उनका लोकार्पण का कोई सरकारी कार्यक्रम नही था। उन्हें अचानक मौके पर बुलाया गया। उन्होने कहा कि सरकारी कार्यक्रम नही होने की वजह से शायद विधायक को नही बुलाया होगा। वहीं तराई पश्चिमी वन प्रभाग की डीएफओ नेहा वर्मा ने अपनी गलती को स्वीकार करते हुए कार्यकर्ताओं से माफ मांगी। कार्यकर्ताओं के गुस्से को देख वन मंत्री बगैर लोकार्पण के लिए चले गए।

विरोध करने वालों में युवा मोर्चा जिला महामंत्री भुपेन्द्र खाती, मदन जोशी, राहुल भारद्वाज, संजय डॉर्वी, गणेश मेहता, इंदर रावत, प्रेम हाल्सी आदि थे।

Advertisements