•  बिना अनुमति के औली में टेंट निर्माण कार्य शुरू होने पर उठने लगे सवाल ?

  • पर्यावरणीय, पारिस्थितिकीय लिहाज़ से संवेदनशील है यह  इलाका

  • उच्च हिमालयी इलाके में मानव दखलंदाज़ी से पर्यावरण को नुकसान 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून  : औली में होने वाली चर्चित गुप्ता बंधुओं के बेटों के शादी समारोह के लिए जहां उच्च हिमालयी इलाके में किसी भी आयोजन के नियमों, कानूनों को ताक पर रखा जा रहा है वहीं 200 करोड़ की इस शादी पर आयकर विभाग की नज़रें भी गढ़ी हुई है। आयकर विभाग  सूत्रों के अनुसार चर्चित इस शाही शादी पर जहां गुप्ता बंधुओं पर उनकी नज़र है वहीं शादी में बुलाये गए मेहमानों और  आयोजक भी उनकी रडार पर हैं। 

समारोह आयोजकों को अभी तक औली में टेंट निर्माण की अनुमति नहीं मिली है, लेकिन यहां जगह-जगह टेंट कालोनी निर्माण कार्य के लिए पर्यावरणीय और पारिस्थितिकीय लिहाज़ से हिमालयी इलाके में युद्धस्तर पर शुरू हो गया है। यहाँ टेंट लगाने की अनुमति अभी तक नहीं मिली है और यहां आयोजकों ने टेंट निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है इसके लिए जगह -जगह गड्ढे खोद दिए गए हैं।

उच्च हिमालयी इलाके में बिना अनुमति के हो रहे कार्यों पर उपजिलाधिकारी जोशीमठ वैभव गुप्ता का कहना है कि शादी के लिए तमाम इन्तज़ामातों की अनुमति के लिए जिला मुख्यालय गोपेश्वर और राजधानी देहरादून में बैठे उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट भेजी गई है। बिना अनुमति कैसे औली जैसे स्थान में टेंट निर्माण कार्य शुरू होने के सवाल पर उनका कहना है कि इसे दिखवाया जाएगा।

मामले में पैनखंडा संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश चंद्र सती का कहना है कि औली उच्च हिमालय क्षेत्र में स्थित है। यहां होने जा रहे शादी समारोह से पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। औली में अंतरराष्ट्रीय शीतकालीन स्कीइंग प्रतियोगिताएं होती हैं। यहां इस तरह के आयोजन से पर्यावरण, बुग्याल और औली स्लोप को भारी क्षति पहुंचेगी। सरकार को इस संबंध में विचार करना चाहिए और औली की जगह आसपास के किसी इलाके को वेडिंग डिस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाना चाहिए ,ऐसे संवेदनशील इलाके में इस तरह के आयोजन से बचा जाना चाहिए जिससे पर्यावरण सहित पारिस्थितिकीय नुकसान से बचा जा सके। 

गौरतलब हो कि औली में गुप्ता बंधुओं के दो बेटों की शादी का कार्यक्रम आगामी 18 से 22 जून के बीच प्रस्तावित किया गया है। इस शाही शादी में दो सौ करोड़ रुपयों के खर्च का अनुमान है। यहाँ गुप्ता बंधुओं के पुत्रों सूर्यकांत की शादी 20 जून को जबकि शशांक की शादी 22 जून को होगी। कहा जा रहा है कि अजय गुप्ता पहले अपने बेटों की शादी इटली में करना चाहते थे, लेकिन सरकार की पहल पर उन्होंने औली को इसके लिए चुना गया।

वहीं दो सौ करोड़ की शाही शादी को लेकर आयकर विभाग की नज़रें इस शादी के खर्चे के चर्चे होने के बाद उस पर टिक गयी है। आयकर विभाग के सूत्रों का कहना है कि गुप्ता बंधुओं का सारा पैसा विदेश से ही कमाया गया है लिहाज़ा इस पर उनकी नज़र का होना कोई बड़ी बात नहीं है। गुप्ता बंधु यहाँ होने वाले खर्चे की रकम को किस तरह देश में लाते हैं और किस तरह खर्च करते हैं इसपर नज़र रखना विभाग की नज़र का होना जरुरी भी है वहीं इस शाही शादी में कौन -कौन मेहमान आमंत्रित किया गया है उनके द्वारा दिए जाने वाले गिफ्ट और गुप्ता बंधुओं के रिटर्न गिफ्ट पर भी विभाग की नज़र रहेगी।  इतना ही नहीं इस शादी के आयोजन के लिए जिस भी कंपनी को आयोजन का ठेका दिया गया है उसपर भी विभागों की नज़रें रहेंगी। 

Advertisements