•  प्रधानमंत्री  के चुनाव क्षेत्र में स्वच्छता दिवस पर एक्स्ट्रा कार्बन करेगी 

नयी दिल्ली : स्वच्छता दिवस पर एक्स्ट्रा कार्बन नाम की संस्था करेगी चेक-इन आधारित मोबाइल से कूड़े का सचालन का पायलट। आप सोच रहे होंगे इसमें नया क्या हे? हर नगर निगम अपने कूड़े के सञ्चालन वाले की सेवाएं देनी वाली कम्पनी को RFID टैग लगाने को कहती है।  जिससे उन्हें पता चले की कहाँ से कूड़ा उठा या नहीं उठा. यह एक महंगी प्रक्रिया है. जिसके लिए कूड़ा संचालन वाली कंपनियां खर्चा नहीं करना चाहती इसलिए यह लागू नहीं हो  पाता है। यह प्रकिया आम जनता के किसी काम की नहीं हे क्यूँकि वह अपनी कोई भी प्रतिक्रिया इस मॉडल में नहीं दे सकते। यह कूड़ा उठाने वाले के लिए भी काम बढ़ाने वाली बात है। वह कूड़ा उठाएगा या हर घर के आगे जेक मोबाइल फ़ोन से RFID के साथ समय नष्ट करेंगा। 

इन सब समस्याओं से निबटने के लिए एक्स्ट्रा कार्बन चेक-इन आधारित कूड़ा उठवाना वाला app लेके आये हैं जो की कुछ इस प्रकार चलेगा। कूड़ा उठाने वाले को अपने फ़ोन में एक बार GSH app डाउनलोड करने के बाद अपने घरों का पता जंहा से वह कूड़ा उठाता वह डालना है . उसके बाद हर घर को मैसेज जायेगा जब वह उस गली या मोहल्ले में पहुँच जायेगा। हर घर से कूड़ा उठाने के बाद उनको सूचित किया जायेगा की कूड़ा उठ चूका है।  अगर नहीं उठा हे तोह हर घर अगले 24  घंटे में अपनी राय दे सकता है। इससे हर घर सशक्त होगा अपनी शिकायत दर्ज करवाने में। 

RFID एक पुरानी  टेक्नोलॉजी है  जोकि स्वच्छता में सिर्फ एक तरफ़ा पहलू ही दिखा सकती है . इसको लागू करना भी एक महंगा खर्चा है जिसकी वजह से यह लागू करने में कंपनियां कतरा रही हैं। इस app का  टेस्ट एक्स्ट्रा कार्बन कंपनी वाराणसी में किआना कंपनी के साथ करेगी और जयपुर में इंस्ट्रोमेडिक्स कंपनी के साथ. एक्स्ट्रा कार्बन की शुरुआत उत्तराखंड वासी गौरव जोशी ने अपने मित्र अनंत अविनाश के साथ सन 2013 में गुरुग्राम से की थी। आज यह कंपनी छह  शहरों में यह सेवाएं प्रदान कर है।[mom_video type=”youtube” id=”IT0Df6wis3A” width=”600 ” height=”400 “]

Advertisements