यहाँ देखिये वह  पूरा वीडियो :-

देहरादून : जीरो टॉलरेंस की नीति पर चल रही प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को एक बड़ा कदम उठाते हुए पेयजल निगम के अधिशासी अधिकारी इमरान का अपने आवास पर घूस लेते हुए वीडियो वायरल होते ही पेयजल मंत्री प्रकाश पंत ने जहाँ आरोपी अधिकारी इमरान अहमद को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है, वहीँ पेयजल निगम के एमडी भजन सिंह को लम्बी छुट्टी पर भेज दिया गया है। इस बात की पुष्टि खुद पेयजल मंत्री प्रकाश पंत ने दूरभाष पर रामनगर से पूछे जाने पर की है। वहीँ वीडियो के वायरल होते ही पेयजल एवं स्वच्छता अनुभाग -1 ने अपने पत्रांक संख्या 357 /उन्नतीस (1)/2018 -(05 जांच)2018 देहरादून, दिनांक 09 मार्च 2018 के तहत  निलंबन के आदेश दे दिए हैं। 

वीडियो में पैसे देने वाले व्यक्ति ने खुद ही अधिशासी अधिकारी को स्पाई कमरे में  नौ लाख रुपये की रिश्वत देते हुए कैद किया है । जानकारी में आया है कि अधिशासी अभियंता इमरान ने यह पैसा मोथरोवाला में बन रहे सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के ठेकेदार को भुगतान के एवज  में लेना बताया जा रहा है। वहीँ पैसा लेने वाला अधिशासी अधिकारी बाकायदा बातचीत में यह भी स्वीकार कर रहा है कि यह पैसा निगम के एमडी तक  पास जाएगा। 

गौरतलब हो कि पेयजल निगम की ओर से 13वें वित्त आयोग के तहत मोथरोवाला में करीब 125 करोड़ रुपये की लागत से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का कार्य निर्माणाधीन है। निर्माण करने वाले ठेकेदार की  कंपनी को दस करोड़ रुपये भुगतान होना था। वहीँ वीडियो में हुई अधिशासी अभियंता इमरान और ठेकेदार के नुमाइंदे के बीच हो रही वार्तालाय में साफ है कि इस रकम का पांच प्रतिशत जल निगम के अधिकारी घूस मांग रहे थे। उसी पांच प्रतिशत का पहला टोकन अमाउंट नौ लाख रुपये वीडियो में अधिशासी अधिकारी के घर पर दिया जा रहा है।

इतना ही नहीं स्टिंग करने वाला व्यक्ति बाकी का एक लाख शाम तक देने की बात कर रहा है। वीडियो में स्टिंग करने वाला व्यक्ति यह भी बता रहा है कि चार पैकेट दो-दो लाख के हैं और एक पैकेट एक लाख रुपये का है। वह बार-बार अधिशासी अधिकारी इमरान अहमद को पैसा गिनने को बोल रहा है, लेकिन उन्होंने वीडियो में पैसा अपने हाथ से नहीं गिना। हालांकि, इमरान अहमद ने वीडियो में यह भी कहा है कि यह पूरा पैसा एमडी (भजन सिंह) के पास जाएगा।

यहाँ देखिये वह  पूरा वीडियो :-

Advertisements