शिक्षामन्त्री के अपराधिक रिकाॅर्ड ने खोली भाजपा की पोलः रघुनाथ सिंह

0
351
  • -मोर्चा बोला : शिक्षामन्त्री अरविंद पांडे पर दर्ज हैं ..
  • – डकैती, हत्या, दलित उत्पीडन, चोरी
  • – हत्या का प्रयास, बलवा, उन्माद के संगीन मुकदमें 
देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
विकासनगर। जनसंघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जी0एम0वी0एन0 के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि काशीपुर के कुंडेश्वरी चैकी में खनन माफियाओं का साथ देने गये शिक्षामन्त्री अरविन्द पाण्डे ने अपने चहेतों व खुद का खनन कारोबार प्रभावित होता देख चौकी प्रभारी से अपनी सरपरस्ती में मारपीट करवा दी, जिससे स्पष्ट हो गया कि पूरी सरकार अवैध खनन कारोबार में लिप्त हैं।
मोर्चा कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए नेगी ने कहा कि बड़े शर्म की बात है कि ऊँचे आर्दशों एवं संस्कारों की बात करने वाली भाजपा ने एक ऐसे व्यक्ति को शिक्षामन्त्री बनाया हुआ है, जिसके खिलाफ हत्या का एक, हत्या का प्रयास के चार (कुछ वापस), डकैती का एक, चोरी का एक तथा दलित उत्पीडन के पाॅंच तथा बलवा व घर में घुसकर मारपीट, आमजन के लिए खतरा व साम्प्रदायिकता करने जैसे संगीन अपराध से जुडे मामले दर्ज हैं।
नेगी ने कहा कि शिक्षामन्त्री पर दर्ज मुकदमें जिसमें अधिकांश दलित उत्पीड़न के हैं, ने भाजपा के दलित प्रेम की पोल पट्टी खोल दी है। भाजपा को दलित सिर्फ चुनाव के समय अच्छे लगते हैं। दलितों के घर भोज करने वाली भाजपा का इससे अधिक शर्मनाक चेहरा क्या हो सकता है। नेगी ने कहा कि दो दर्जन से अधिक संगीन धाराओं में मुकदमें दर्ज होने के बावजूद भी भाजपा को इससे अच्छा शिक्षामन्त्री नहीं मिला। मन्त्री खनन माफियाओं से यारी के चलते आचार संहिता ही भूल बैठे। पत्रकार वार्ता में मोर्चा नेता दिलबाग सिंह, ओ0पी0 राणा आदि उपस्थित रहे।
Previous articleनरेश बंसल इन और अजय भट्ट आउट !
Next article‘स्पेस पावर’ क्लब में भारत हुआ शामिल
नए भारत के युवा होता उत्तराखंड का उभरता हुआ हिंदी न्यूज़ प्लेटफॉर्म है देवभूमि मीडिया डॉट कॉम। यहाँ आपको मिलेंगी उत्तराखंड सहित देश, दुनिया, खेल, सिनेमा, सियासत, स्वास्थ्य, शिक्षा, करियर और मनोरंजन जगत की सबसे ताज़ातरीन, निष्पक्ष, रोचक और उपयोगी खबरें। खबरें जिनमें सब्सटांस हो, सेंसेशन नहीं। खबरें जो जेंडर, कास्ट और सोशल जस्टिस को लेकर प्रोग्रेसिव हों। खबरें जो आपको रखे अवेयर, इंस्पायर करे, एंटरटेन करे। खबरें जिनसे समाज का सरोकार हो। खबरें जो हों सच की बुनियाद पर। खबरें जो जनता की आवाज हों। खबरें जो जमीन से जुड़ी हों। खबरें जो उड़ती-उड़ती मिली हों। ऐसी हर खबर को हम लाएंगे आप तक बेधड़क और बेहिचक।