कुमाऊं मंडल में भूकंप और बागेश्वर में दो घायल और कई मकान क्षतिग्रस्त

0
466

भूकंप का केंद्र बागेश्वर जिले के कपकोट तहसील का गोगिना क्षेत्र

भूकंप के झटकों से किड़ई गांव निवासी लच्छी राम का मकान का एक हिस्सा गिरा 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

बागेश्वर:  शनिवार की सुबह कुमाऊं मंडल में सुबह 6:31 बजे भूकंप के झटके महसूस हुए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.7 मैग्नीट्यूड आंकी गई है। भूकंप का केंद्र बागेश्वर जिले के कपकोट तहसील का गोगिना क्षेत्र था। बागेश्वर में अधिक प्रभाव होने से दो मकान क्षतिग्रस्त हो गए और दो लोग घायल भी हो गए। कपकोट क्षेत्र में कई घरों में दरारें पड़ गई हैं। झटके से लोग घरों से बाहर निकल आए और अफरातफरी का माहौल रहा।

कुमायूं मंडल के पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, भीमताल क्षेत्र में भूकंप के झटके महसूस हुए, हालांकि यहां से किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है। लेकिन बागेश्वर जिले दुग नाकुरी तहसील में भूकंप के झटकों से किड़ई गांव निवासी लच्छी राम का मकान का एक हिस्सा गिर गया। जब सुबह उनका परिवार सोया हुआ था। मकान कच्चा होने से पत्थरों की चपेट में आकर उनकी पत्नी बसंती देवी व 11 वर्षीय बेटी रीता घायल हो गई। जिनका जिला अस्पताल लाकर उपचार कराया गया।

उपजिलाधिकारी कपकोट प्रमोद कुमार के अनुसार भूकंप से नंदन सिंह निवासी ग्राम पोथग, ग्राम असों के उमेद सिंह व राजन सिंह के मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। जिसकी तकनीकि जांच की जा रही है। वहीं कपकोट तहसील के फरसाली वल्ली गांव में कुंदन राम, नंदन उपाध्याय, शेर राम आदि के मकानों में दरारें पड़ गईं हैं। कपकोट में कुछ दिन पूर्व बनाया या हाइटेक शौचालय भी टूटने के कगार पर पहुंच गया है। दीवारों में दरारें आने से उसका इस्तेमाल भी शनिवार की सुबह नहीं हो सका है।

भूकंप के झटके महसूस होने पर जिलाधिकारी रंजना राजगुरु ने तत्काल आपदा कंट्रोल रूम में पहुंचकर सभी टीम को अलर्ट जारी किया। आपदा कंट्रोल रूम में अधिकारियों की बैठक आयोजित की गई ओर उन्हें दिशा-निर्देश दिए। वहीं भूकंप प्रभावितों को जिला प्रशासन ने 3800 रुपये की अहेतुक धनराशि, दो कंबल और राहत किट वितरित की गयी ।