महिला वैज्ञानिकों के दल ने किया अमेरिका के 20 अग्रणी संस्थानों का दौरा

0
543

भारत-अमेरिका विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी फोरम के सहयोग से किया दौरा

पीएचडी कर रही छात्राओं और संस्थानों में सेवारत महिला वैज्ञानिकों के लिए अवसर

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

नई दिल्ली। भारत-अमेरिका विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी फोरम (आईयूएसएसटीएफ) के सहयोग से 25 महिला वैज्ञानिकों ने अपने अनुसंधान कार्य को आगे बढ़ाने और अनुसंधान से संबंधित अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों में प्रशिक्षित होने के लिए अमेरिका के 20 अग्रणी संस्थानों का दौरा किया। विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग, गणित एवं चिकित्सा (डब्ल्यूआईएसटीईएमएम) में भारत अमेरिका फेलोशिप के तहत महिला वैज्ञानिकों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर की जानकारी हासिल की है।

डब्ल्यूआईएसटीईएमएम का उद्देश्य अनुसंधान क्षमताओं एवं योग्यताओं को बढ़ाना तथा इस दिशा में अमेरिका के उत्कृष्ट संस्थानों में भारतीय महिला वैज्ञानिकों, इंजीनियरों एवं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकीविदों को अवसर प्रदान करना है।

पीएचडी कर रही छात्राओं के लिए वीमेन ओवरसीज़ स्टूडेंट इंटर्नशिप (मॉड्यूल i)और पीएचडी डिग्रीधारी व भारत में किसी मान्यता प्राप्त संस्था या प्रयोगशाला में किसी नियमित पद पर नियुक्त महिलाओं के लिए वीमेन ओवरसीज़ फेलोशिप (मॉड्यूल ii) है। महिला वैज्ञानिकों के पहले दल, जिसमें 25 महिलाएं शामिल हैं, ने अमेरिका के 20 अग्रणी संस्थानों का  दौरा किया है। आवेदन के बाद चयनित 20 महिलाओं का दूसरा दल इस वर्ष अमेरिका के शीर्ष संस्थानों का दौरा करने की तैयारी कर रहा है।

यह फेलोशिप 21 से 45 वर्ष की आयु की सीमा के भीतर प्रखर भारतीय महिला नागरिकों के लिए है। उम्र का ऐसा व्यापक मानक न केवल उनके लिए सहायक है, जो वर्तमान में अनुसंधान कर रही है, बल्कि उन असाधारण महिला शोधकर्ताओं के लिए भी है जो अपने अनुसंधान से थोड़ा विराम लेकर वापस लौटना चाहेंगी।