अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी सियांग जिले में परी हिल्स के पास दिखा मलवा 

एमआइ-17 हेलीकॉप्टर से 12,000 फीट की ऊंचाई से देखा गया

विमान में सवार 13 लोगों के बारे में कोई जानकारी नहीं 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

नई दिल्ली: आठ दिनों बाद मंगलवार को भारतीय वायुसेना के लापता एएन-32 विमान का मलबा अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी सियांग जिले में परी हिल्स के पास दिखाई दिया है। वायुसेना का कहना है कि विमान का मलबा लिपो से 16 किमी उत्तर और टाटो से उत्तरपूर्व में एमआइ-17 हेलीकॉप्टर से 12,000 फीट की ऊंचाई पर देखा गया है। विमान पर सवार 13 लोगों के बारे में अब भी जानकारी जुटाई जानी बाकी है। वायुसेना अब बुधवार सुबह गरुड़ कमांडों और वायुसैनिकों को मलबे वाले स्थान पर उतारकर तलाशी अभियान चलाएगी।

वायुसेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मंगलवार शाम मलबा दिखाई देने के बाद ही सेना ने मलबे वाले स्थान पर चीता और एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर को उतारने का प्रयास किया था, लेकिन घने पहाड़ी जंगल होने के चलते हेलीकॉप्टर को वहां उतारा नहीं जा सका। हालांकि मंगलवार देर शाम तक वायुसेना ने नजदीक की ही एक जगह चिन्हित कर ली, जहां से बुधवार तड़के हेलीकॉप्टर उतारकर सघन अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि मंगलवार रात में स्थानीय निकाय के अफसर और दूसरे अधिकारी तलाशी अभियान जारी रखेंगे ताकि उन 13 लोगों के बारे में जल्द से जल्द जानकारी प्राप्त हो सके।

बता दें कि वायुसेना के इस एएन-32 मालवाहक विमान ने तीन जून की दोपहर 12.27 पर असम के जोरहाट से उड़ान भरी थी और एक बजे उसका संपर्क टूट गया था। तलाशी अभियान में एयरक्राफ्ट सी-130जे, एएन-32एस, एमआइ-17 हेलीकॉप्टर और थलसेना के कई आधुनिक हेलीकॉप्टर शामिल थे। सी-130जे, नौसेना का पी8आइ और सुखोई जैसे विमान दिन-रात बहुत सारा डेटा इकट्ठा कर रहे थे। क्रैश की संभावित जगह से विशेषज्ञ इंफ्रारेड और लोकेटर ट्रांसमीटर के संकेतों को पकड़ने की कोशिश कर रहे थे। तस्वीरों और टेक्निकल सिग्नल के आधार पर कुछ खास बिंदुओं पर कम ऊंचाई पर हेलीकॉप्टर ले जाए जा रहे थे। ऊपर से महज इतना हो पा रहा था कि वे बस जमीनी तलाशी टीम के साथ तालमेल बना पा रहे थे।

Advertisements