अगस्त क्रान्ति की वर्षगांठ पर कांग्रेस ने आयोजित किए श्रद्धांजलि कार्यक्रम एवं गोष्ठियां

0
316

स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में अगस्त क्रान्ति का दिन एक ऐतिहासिक दिन

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून । उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिह के आह्वान पर आज प्रदशभर में कांग्रेसजनों द्वारा स्वतंत्रता आन्दोलन अगस्त क्रान्ति (अंग्रेजो भारत छोड़ो आन्दोलन) की वर्षगांठ को जिला मुख्यालयों में श्रद्धांजलि कार्यक्रम एवं गोष्ठियों का आयोजन कर मनाया गया। इसी कार्यक्रम के तहत प्रदेश मुख्यालय देहरादून में श्रद्धांजलि सभा एवं गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में बडी संख्या में कांग्रेस कमेटी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत आज प्रातः 11ः00 बजे प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पार्टी के कार्यकर्ता एकत्र हुए और स्वतंत्रता आन्दोलन के महानायक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी द्वारा चलाये गये अगस्त क्रांति आन्दोलन में शहीद हुए स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को श्रद्धा सुमन अर्पित किये। इससे पूर्व महानगर कांग्रेस अध्यक्ष लालचन्द शर्मा द्वारा ध्वजारोहण किया गया तथा सेवादल कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रगीत एवं राष्ट्रगान गाया गया।
इस अवसर पर कांग्रेस वक्ताओं ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में अगस्त क्रान्ति का दिन एक ऐतिहासिक दिन है। आज ही के दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अंग्रेजी हुकूमत को भारत से निकालने के लिए राष्ट्र को अंगे्रजो भारत छोड़ो का नारा दिया जो पूरे देश में गूंजा और इसी नारे को लगाते हुए लाखों नर-नारियों ने देश की आजादी के लिए बढ़चढ़ कर भाग लिया जिसे देखकर बिटिष हुकूमत भयभीत हो गई और आन्दोलन को क्रूरता से दबाना षुरू कर दिया। अंगे्रजी हूकूमत ने आजादी के दिवानो पर लाठियां तथा गोलियां बरसानी शुरू कर दी जिसमें अनेकों स्वतंत्रता सेनानी शहीद हुए तथा कई जेल में डाल दिये गये। इसके बावजूद आजादी के दिवानों ने हार नहीं मानी और दृढ निश्चय के साथ देश की आजादी के लिए संघर्ष करते हुए आगे बढ़ते चले गये तथा देश को आजादी दिलाई। हम सब कांग्रेसजन आजादी के आन्दोलन के उन महापुरूषों को याद कर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। उन्होंने कहा कि आज हम स्वतंत्र भारत में अगस्त क्रान्ति के अमर शहीदों के बलिदानों के कारण ही सांस ले रहे हैं। हमें राष्ट्र के स्वतंत्रता आन्दोलन के स्वतंत्रता सेनानयों को सदैव याद रखना चाहिए। हम अगस्त क्रान्ति के संधर्ष को कभी भुला नहीं सकते। हमें अगस्त क्रान्ति के शहीदों और महान क्रान्तिकारी नेताओं से प्रेरणा लेकर राश्ट्रहित में कार्य करना चाहिए। यही हमारी अगस्त क्रान्ति के षहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
वक्ताओं ने आजादी के आन्दोलन के महान क्रान्तिकारियों को प्रेरणा स्रोत बताते हुए कहा कि इन महानायकों ने देष की आजादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देषवासियों के आजादी के सपने को साकार किया जिसमें महिलाओं ने बराबर की सहभागिता निभाई। हमारे देश की महान विभूतियों ने राष्ट्र के जनमानस को गहराई तक प्रभावित किया तथा इन महान नायकों की रहनुमाई में देष ने न केवल आजादी की लड़ाई लड़ी अपितु देष के नौजवानों को स्वतंत्रता आन्दोलन में बढ़चढ़ कर भाग लेने के लिए प्रेरित कर देने जैसे कार्यों केा अंजाम देने में सफलता पाई।
इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष आर्येन्द्र शर्मा, प्रदेश महामंत्री नवीन जाशी, अनुसूचित जाति विभाग अध्यक्ष राजकुमार, महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, सेवादल महिला सेवादल अध्यक्ष हेमा पुरोहित, पीसीसी सदस्य राजेष चमोली, डाॅ0 प्रतिमा सिंह, कार्यकारी नगर अध्यक्ष ऋषिकेश शिव मोहन मिश्रा, महिला महानगर अध्यक्ष सावित्री थापा, विजय रतूडी मोन्टी, नीरज त्यागी, पार्षद आनन्द त्यागी, मनीश कुमर, सचिन थापा, अर्जन सोनकर, निकखल कुमार, देविका रानी, महेन्द्र रावत, देवेन्द्र सती, आषीश कण्डवाल, अनिल उनियाल, आशीश कण्डवाल, मोन्टू नेगी,अरूण शर्मा, प्रवीन त्यागी, राजेन्द्र चैहान, अभय आनन्द, मधुसूदन सुन्द्रियाल, राॅबिन पंवार, सहदेव राठौर, पुरन्जय राजभर, रमेश गौड, पियूष गॉड, महानगर अध्यक्ष राजकुमार यादव मनमोहन शर्मा, कृष्णपाल, ललित थपलियाल, मंजू चैहान, चन्द्र प्रकाष, सी.के. चहल, गीता खत्री, उमा रावत, इन्दू सिंह, अषा थापा, आनन्द खुशबू, शालिनी चैधरी, नीरज नेगी, अमन कुमार, हिमांषु, रिग्विजय चैहान, सुनील बांगा, नागेश रतूड़ी, सुशीला देसाई, लता सिंह, मनोज, शाजिद अली, मंजू रानी, नौशाद चैधरी, उद्यिमा तोलिया, उस्मान अली, आषिक अली पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे।